ताज़ा खबर

वीडियो : देश की राजधानी दिल्ल्ली में महिलाओं को करना पड़ रहा है खुले में शौच

दिल्ली के शकरपुर में शादी में दुल्हे के पास खड़ी दुल्हन को मारी गोली, इलाज के बाद हुए फेरे, आरोपी की तलाश में जांच जुटी

उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड, कोहरे की वजह से IGI एयरपोर्ट पर उड़ानें डायवर्ट

जम्मू से दिल्ली आ रही ‘दूरंतो एक्सप्रेस’ में हथियारबंद बदमाशों ने यात्रियों से नकदी और मोबाइल छीने

शीला दीक्षित ने संभाली दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष की कमान, जगदीश टाइटलर की मौजूदगी पर विपक्ष ने उठाए सवाल

दिल्ली के मौजपुर में जलबोर्ड की अंडर ग्राउंड पाइप लाइन फटने से धंसी सड़क, गड्ढ़े में समाई कार-ऑटो

JNU देशद्रोहमामला: कन्हैया कुमार और अन्य के खिलाफ अब 19 जनवरी पटियाला हाउस कोर्ट में होगी सुनवाई, पुलिस ने दायर की 1200 पन्नों की चार्जशीट

2017-08-17_toilet1.png

एक तरफ सरकार शौचालय को लेकर काफी जागरूकता फैला रही है, दूसरी तरफ आप इस वीडियो में देख सकते है की कैसे महिलाओं को करना पड़ रहा है खुले में शौच, हम बात कर रहें है. मंगलापुरी इलाके की जहाँ पर महिलाओं के लिए कोई टॉयलेट सुविधा नही है. एक तरफ अक्षय की टॉयलेट फिल्म लोगों को जागरूक कर रही है क्या यह जागरूकता सिर्फ लोगों को रिझाने के लिए है या फिर हकीकत? लेकिन आप इस वीडियो में देख सकते हैं की यह जागरूकता सिर्फ नाम की है, महिलाओं  को जाना पड़ रहा है खुले में शौच.

कई महिलाओं ने इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिशे भी की और जगह-जगह भटकती रहीं कभी नगरपार्षद तो कभी कहीं, लेकिन सभी का एक ही उत्तर आया की हम कुछ नही कर सकते, कभी कहते की यह डी.डी.ऐ की जगह है. तो कभी कहते यह फलाना की जगह है ऐसे में महिलाएं निराश नही होंगी तो क्या होंगी? ऐसे में उनका सरकार से विशवास उठ चूका हैं उनका.

आपको हम बता दे की, महिलाओं को किन-किन समस्याओ का सामना करना पड़ता हैं पहला तो उन्हें खुले में शोच करना पड़ता है. दूसरा उन्हें फूटपाठ में नहाना पड़ता है वहां पर आते जाते आदमी उन्हें गन्दी निगाहों से देखते हैं क्या यह पीड़ा हम सबके लिए दर्दनाक नहीं है अगर सब महिला एक साथ मिलकर आवाज़ भी उठाती है, तो उन्हें बस निराशा ही हाथ लगती है.

ऐसे में महिलाओं को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है आते-जाते उनसे बोलते हैं की तुम यहाँ खाली मैदान में शौच मत करो और पत्थर मारते हैं. बेचारी यहाँ नही करेगी तो कहाँ करेगी घर में कोई टॉयलेट नहीं. प्रशासन ने उन्हें कोई टॉयलेट नही दिया, अगर दिया भी है तो उनसे पब्लिक टॉयलेट में पैसे लिए जाते हैं.

दिल्ली से प्रीती सुन्द्रियाल की रिपोर्ट



loading...