केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, हज यात्रा के लिए दी जाने वाली सब्सिडी पूरी तरह खत्म

वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की याचिका को रक्षा मंत्रालय ने किया खारिज, जानें क्या है मामला

कमल हासन ने ‘हिंदू’ शब्द को लेकर दिया विवादित बयान

सरकार के लिए विपक्ष की मोर्चेबंदी, राहुल गांधी से मिले नायडू, शाम को लखनऊ में अखिलेश-मायावती से करेंगे मुलाकात

लोकसभा चुनाव: PM मोदी और अमित शाह को मिली क्लीनचिट से नाराज चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने EC की मीटिंग से किया किनारा

PM मोदी की 5 साल में पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा- फिर बनेगी पूर्ण बहुमत वाली NDA की सरकार

साध्‍वी प्रज्ञा के नाथूराम गोडसे वाले बयान पर पीएम मोदी ने कहा- दिल से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा, अनिल सौमित्र को पार्टी से निलंबित किया

2018-01-16_Government-ends-subsidy-for-Haj.jpg

केंद्र सरकार ने मंगलवार को एक बड़ा फैसला लेते हुए हज यात्रियों को दी जानी वाली सब्सिडी खत्म कर दी है। केंद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कहा कि हज यात्रा पर दी जाने वाली रियायत इस साल से खत्म कर दिया गया है। अब्बास नकवी ने बताया कि हर साल सरकार की तरफ से हज सब्सिडी के रूप में 700 करोड़ रुपये दी जाती थी। नकवी ने इसके साथ ही बताया कि पिछले साल जहां सवा लाख मुस्लिम हज पर गए थे। वहीं इस बार 1.75 लाख जायरीन हज यात्रा पर मक्का जाएंगे। यह संख्या आजाद भारत के इतिहास में सबसे अधिक है।

आपको बता दें कि कि सुप्रीम कोर्ट ने साल 2012 में केंद्र सरकार को हज सब्सिडी खत्म करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि सरकार को इसे 2022 तक पूरी तक खत्म कर देना चाहिए।

इससे पहले, पिछले दिनों मोदी सरकार ने मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए कानून में बदलाव लाते हुए वार्षिक हज यात्रा के लिए महिलाओं को बिना किसी पुरुष संरक्षक के यात्रा करने की अनुमति दी थी।

भारत की नई हज नीति के अनुसार 45 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं को चार या उससे अधिक के समूहों में बिना मेहरम के हज यात्रा पर जाने की अनुमति दी गई है। केंद्र सरकार ने कहा था कि हज 2018 के लिए लगभग 3 लाख 59 हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं, जबकि भारत का कोटा 1 लाख 70 हजार का है।



loading...