ताज़ा खबर

गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे की राहुल गांधी को चुनौती, कहा- कांग्रेस को बर्बाद कर दूंगा

2018-10-17_VishwjitRane.jpg

लंबे समय से बीमार चल रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की जगह अगले मुख्यमंत्री के रूप में मौजूदा मंत्री विश्वजीत प्रताप सिंह राणे के नाम की चर्चा मीडिया में है. मंगलवार को कांग्रेस के दो विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद पार्टी के हौसले बुलंद हैं. इन विधायकों को बीजेपी में शामिल कराने में पूर्व कांग्रेसी नेता और इस समय गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने बड़ी भूमिका निभाई. राणे ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को खुली चुनौती दी है. उन्होंने कहा कि वह गोवा में कांग्रेस को बर्बाद कर देंगे.

विश्वजीत प्रताप सिंह राणे ने धमकी भरे अंदाज में कहा, मैं कांग्रेस पार्टी को बर्बाद कर दूंगा. क्रिसमस या न्यू ईयर तक कांग्रेस के विधायकों की संख्या 10 पर आ जाएगी. अगर राहुल गांधी आप पार्टी को टूटने से बचा सकते हैं तो बचा लें. गोवा विधानसभा के सदस्य के तौर पर इस्तीफा देने के कुछ ही घंटों बाद कांग्रेस विधायक सुभाष शिरोड़कर और दयानंद सोप्ते मंगलवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की उपस्थिति में बीजेपी में शामिल हो गए थे.

इससे पहले गोवा के कांग्रेस नेता चेल्लाकुमार ने आरोप लगाया था कि दोनों विधायकों को शाह ने धमकाया है और गोवा की भाजपा की अगुवाई वाली गठबंधन सरकार में स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने उन्हें पार्टी में शामिल होने के लिए राजी किया है, जो खुद अस्वस्थ चल रहे मनोहर पर्रिकर की मुख्यमंत्री की कुर्सी पर निगाह बनाए हुए हैं. उन्होंने कहा, मुझे एक संदेश मिला है कि विश्वजीत राणे वह व्यक्ति हैं जिन्होंने उन्हें राजी किया और दिल्ली लेकर गए. उन्होंने भाजपा हाईकमान के साथ यह सौदेबाजी की कि अगर वह दो कांग्रेस विधायकों को भाजपा में शामिल करवा ले जाते हैं तो उन्हें मुख्यमंत्री बनाया जाए.

उन्होंने कहा कि धनबल और सरकारी मशीनरी के बल पर उन्होंने दोनों विधायकों को पार्टी में मिला लिया. कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि भाजपा की लगातार धमकियों के कारण कांग्रेस विधायक डर के साये में थे. वहीं, राणे ने कहा कि चेल्लाकुमार के बयान उनकी निराशा को दिखा रहे हैं. इन दोनों विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस अब राज्य में सबसे बड़ी पार्टी नहीं रह गई है. कांग्रेस और भाजपा, दोनों के राज्य में 14-14 विधायक हैं. भाजपानीत गठबंधन सरकार को गोवा फारवर्ड, महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के तीन-तीन विधायकों, तीन निर्दलीय विधायकों और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के एक विधायक का समर्थन हासिल है.

गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे कभी वफादार कांग्रेस नेता थे. साल 2010 में पहली बार विधायक चुने गए राणे इस समय राज्य कैबिनेट में स्वास्थ्य, महिला और बाल विकास मंत्री हैं. उनके पिता कांग्रेस के विधायक प्रताप सिंह राणे चार बार मुख्यमंत्री रह चुके हैं. उनके पिता प्रताप सिंह राणे अभी भी कांग्रेस से विधायक हैं. विश्वजीत ने सारी जिंदगी कांग्रेस में गुजारी और मन ही मन मुख्यमंत्री बनने का सपना पालते रहे. 2007 में जब कांग्रेस ने तय किया कि एक ही परिवार से 2 लोगों को टिकट नहीं दिया जाएगा तो विश्वजीत ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ा. वहीं उनके पिता प्रताप सिंह राणे ने कांग्रेस के टिकट पर ही चुनाव लड़ा. उस चुनाव में कांग्रेस पार्टी की जीत हुई और विश्वजीत भी निर्दलीय जीत गए. कांग्रेस में शामिल होने के बाद उन्हें मंत्री बनाया गया था.



loading...