जर्मनी में 85 मरीजों को मारने वाले पुरुष नर्स को मिली उम्रकैद की सजा

पाकिस्तान: गुरूद्वारे के मुख्य ग्रंथी की बेटी को अगवा कर जबरन धर्मं परिवर्तन कराया, परिवार ने इमरान खान से मांगी मदद

भारत से तनाव के बीच पाकिस्तान ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण

पाकिस्तान: बिलावल भुट्टो ने कहा- पहले हम कश्मीर लेने की बात करते थे, अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज को नेशनल एकाउंटिबिलिटी ब्यूरो ने किया गिरफ्तार

पाकिस्तान में लगे भारत के समर्थन में पोस्टर, ‘आज जम्मू-कश्मीर लिया है, कल बलूचिस्तान, पीओके भी लेंगे

अनुच्छेद 370 हटने पर पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग ने की सुरक्षा बढाने की मांग

2019-06-07_Nurse.jpg

जर्मनी में युद्ध के बाद के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा सीरियल किलर यहां के एक नर्स को माना जा रहा है. जिसने अपने 85 मरीजों की हत्या कर दी है. इस नर्स को गुरुवार को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई. नील्स होएगेल नामक इस नर्स की करतूत को जज सेबेस्टियन बेहरमैन ने समझ से बाहर बताया है.

42 साल के होएगेल ने 2000 से 2005 के बीच में ये हत्याएं कीं. इससे पहले भी वह एक दशक जेल में रह चुका है. जिसमें उसे छह लोगों की हत्या करने के आरोप में उम्रकैद की सजा सुनाई गई .। इस मामले में करीब 130 शवों का पोस्टमार्टम किया गया. पुलिस को संदेह है कि उसने 200 से अधिक लोगों की हत्या की है.

हालांकि कोर्ट अभी भी कुल कितनी हत्याएं हुई हैं, इसका पता नहीं लगा पाया है. ऐसा इसलिए क्योंकि कई पीड़ितों का अंतिम संस्कार पोस्टमार्टम से पहले ही हो गया था. बेहरमैन का कहना है कि होएगेल ने जितने लोगों की हत्या की है, उनकी संख्या कल्पना से परे है.

उन्होंने इस बात को लेकर अफसोस भी जताया कि कोर्ट कुछ पीड़ित परिवारों को न्याय नहीं दे पाया. सुनवाई के आखिरी दिन होएगेल ने पीड़ितों के परिवारों से भयानक अपराध के लिए माफी मांगी है. 

साल 2005 में होएगेल को मरीज को बिना किसी डॉक्टर की सलाह के गलत दवाई देते समय पकड़ लिया गया था. जिसके बाद उसे साल 2008 में मरीज की हत्या के आरोप में सात साल की सजा हुई. पीड़ित के परिवार के दबाव पर 2014-2015 के बीच मामले में दूसरा ट्रायल भी हुआ.

जिसके बाद होगएल एक मरीज की हत्या और पांच अन्य की हत्या की कोशिश का दोषी सिद्ध हुआ. उसे तब अधिकतम 15 साल की कैद हुई थी. जिसे जर्मनी में उम्रकैद माना जाता है.



loading...