चारधाम यात्रा का शुभारंभ, आज खुलेंगे गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट

यूपी के बाद अब उत्तराखंड में भी पॉलीथिन के इस्तेमाल पर लगा बैन, सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने दिए आदेश

दिल्ली में भारी बारिश की वजह से संसद भवन परिसर में भरा पानी, उत्तराखंड में बादल फटने से 2 की मौत

उत्तराखंड: चमोली में बरसी आसमानी आफत, बादल फटने से कई दुकानें और गाड़ियां क्षतिग्रस्त, भारी बारिश की चेतावनी

उत्तराखंड: पिथौरागढ़ में मूसलाधार बारिश से भारी नुकसान, हाइड्रो प्रोजेक्ट बहा, दर्जनों मकान ढहे

उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल में बस के गहरी खाई में गिरने से 48 की मौत, हादसे की असली वजह आई सामने

जनता दरबार में बुजुर्ग शिक्षिका ने मांगा ट्रांसफर, वाद-विवाद के बीच भड़के सीएम ने कर दिया सस्पेंड

2018-04-18_chardham25.jpg

आज से उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा अक्षय तृतीया पर शुरू हो रही है. आज दोपहर 12:15 बजे यमुनोत्री धाम के कपाट खोल दिए जाएंगे, जबकि गंगोत्री धाम के कपाट दोपहर 1.15 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे. इसके अलावा प्रसित्र केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल और बदरीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए खुलेंगे.

गंगोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश सेमवाल ने बताया कि मां गंगा की डोली अपने शीतकालीन प्रवास मुखीमठ (मुखवा) से मंगलवार को गंगोत्री धाम के लिए रवाना हुई थी. पौने 12 बजे यह डोली धाम के लिए रवाना हुई. आज (बुधवार) दोपहर को गंगा की डोली गंगोत्री धाम पहुंचेगी. विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ दोपहर 1:15 पर गंगोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे. 

यमुनोत्री मंदिर समिति के उपाध्यक्ष बागेश्वर उनियाल ने बताया कि आज अक्षय तृतीया पर मां यमुना के भाई शनि देव की अगुवाई में मां यमुना को विदा किया जाएगा. पहली बार यमुना की विदाई खरसाली में नव निर्मित यमुना मंदिर से होगी. इससे पूर्व में यमुना का वास गांव के ही राजराजेश्वरी मंदिर में हुआ करता था. बता दें कि गंगोत्री मंदिर खोले जाने का मुहूर्त चैत्र नवरात्र आरंभ होने के अवसर पर 16 मार्च को निकाला गया था.

बता दें कि चारों धाम उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित होने के कारण सर्दियों में भारी बर्फवारी की चपेट में रहते हैं और इसलिए उन्हें श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए बंद कर दिया जाता है. अगले वर्ष मंदिरों के कपाट दोबारा अप्रैल-मई में श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाते हैं. प्रत्येक वर्ष अप्रैल-मई से अक्टूबर-नवंबर तक चलने वाली इस वार्षिक तीर्थयात्रा को गढवाल हिमालय की आर्थिकी की रीढ़ माना जाता है.



loading...