चारधाम यात्रा का शुभारंभ, आज खुलेंगे गंगोत्री व यमुनोत्री धाम के कपाट

उत्तराखंड हाईकोर्ट से बाबा रामदेव की दिव्य फार्मेसी को बड़ा झटका, मुनाफे का कुछ हिस्सा स्थानीय लोगों में बांटने का आदेश

उत्तराखंड: देहरादून में तमसा नदी पर बना 100 साल पुराना पुल टूटने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

सुशांत सिंह राजपूत और सारा अली खान की फिल्म ‘केदारनाथ’ को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ी राहत, याचिका रदद्, उत्तराखंड सरकार ने जांच के लिए बनाया पैनल

उत्तराखंड: उच्च न्यायालय ने नगर पालिकाओं-पंचायतों में 7 दिन के भीतर चुनाव प्रकिया शुरू करने के दिए आदेश

उत्तराखंड में अगले 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी, प्रशासन ने सतर्क रहने के दिए आदेश

गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने वाला पहला राज्य बना उत्तराखंड, विपक्ष ने किया समर्थन

2018-04-18_chardham25.jpg

आज से उत्तराखंड की प्रसिद्ध चारधाम यात्रा अक्षय तृतीया पर शुरू हो रही है. आज दोपहर 12:15 बजे यमुनोत्री धाम के कपाट खोल दिए जाएंगे, जबकि गंगोत्री धाम के कपाट दोपहर 1.15 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे. इसके अलावा प्रसित्र केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल और बदरीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल को श्रद्धालुओं के लिए खुलेंगे.

गंगोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश सेमवाल ने बताया कि मां गंगा की डोली अपने शीतकालीन प्रवास मुखीमठ (मुखवा) से मंगलवार को गंगोत्री धाम के लिए रवाना हुई थी. पौने 12 बजे यह डोली धाम के लिए रवाना हुई. आज (बुधवार) दोपहर को गंगा की डोली गंगोत्री धाम पहुंचेगी. विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ दोपहर 1:15 पर गंगोत्री धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाएंगे. 

यमुनोत्री मंदिर समिति के उपाध्यक्ष बागेश्वर उनियाल ने बताया कि आज अक्षय तृतीया पर मां यमुना के भाई शनि देव की अगुवाई में मां यमुना को विदा किया जाएगा. पहली बार यमुना की विदाई खरसाली में नव निर्मित यमुना मंदिर से होगी. इससे पूर्व में यमुना का वास गांव के ही राजराजेश्वरी मंदिर में हुआ करता था. बता दें कि गंगोत्री मंदिर खोले जाने का मुहूर्त चैत्र नवरात्र आरंभ होने के अवसर पर 16 मार्च को निकाला गया था.

बता दें कि चारों धाम उच्च हिमालयी क्षेत्र में स्थित होने के कारण सर्दियों में भारी बर्फवारी की चपेट में रहते हैं और इसलिए उन्हें श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए बंद कर दिया जाता है. अगले वर्ष मंदिरों के कपाट दोबारा अप्रैल-मई में श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए जाते हैं. प्रत्येक वर्ष अप्रैल-मई से अक्टूबर-नवंबर तक चलने वाली इस वार्षिक तीर्थयात्रा को गढवाल हिमालय की आर्थिकी की रीढ़ माना जाता है.



loading...