दाती महाराज के खिलाफ महिला आयोग को मिली भारी गड़बड़ियां, कल है हाईकोर्ट में सुनवाई

सिग्‍नेचर ब्रिज पर किन्‍नरों ने निर्वस्त्र होकर की अश्लील हरकतें, सोसिल मीडिया पर विडियो वायरल, मामला दर्ज

दिल्ली के वसंत कुंज में डबल मर्डर, आरोपी दर्जी ने बताई फैशन डिजाइनर की हत्या की वजह

दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा पिज्जा लुटेरा गैंग, ऑर्डर देकर डिलीवरी ब्‍यॉय से करते थे लूटपाट

दिल्ली: जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम के हॉस्टल में ऐथलीट पालेंदर चौधरी ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

छठ पूजा 2018: दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने जारी की एडवाइजरी, 13 और 14 नवंबर को इन रास्तों पर जाने से बचें

सीबीआई ने घूस लेने के आरोप में दिल्ली सरकार के जीएसटी असिस्टेंट कमिश्नर जितेंद्र जून को किया गिरफ्तार

2018-07-10_daatimaharajcase.jpg

शिष्या से दुष्कर्म के आरोपी दाती महाराज के खिलाफ राजस्थान में तीन स्तरों पर जांच चल रही है. राज्य महिला आयोग को जांच में भारी गड़बड़ियां मिली हैं. आयोग की रिपोर्ट में जो सवाल उठाए गए, दाती के लिए उनका जवाब देना मुश्किल हो सकता है. इस बीच, दिल्ली हाईकोर्ट में दाती के मामले में 11 जुलाई को सुनवाई होगी. यह केस सीबीआई को सौंपने की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है. हाईकोर्ट ने इसे क्रिमिनल रिट पिटीशन में तब्दील कर दिया और आपराधिक मामलों की सुनवाई करने वाली बेंच के पास भेज दिया.

महिला आयोग को दाती के आश्रम में गड़बड़ियां मिलीं, इनमें चार खुलासे हुए:-

1. पाली के आलावास गांव स्थित आश्वासन बाल ग्राम संस्थान में 18 जून को राज्य महिला आयोग की टीम ने निरीक्षण किया. जांच में पाया गया कि छुट्टियों के दिनों में लड़कियों को आश्रम के हॉस्टल से ले जाने वालों और वापस छोड़ने वालों के नाम-पते गलत होते थे. आश्रम में स्कूल और कॉलेज नियमानुसार नहीं चलाया जा रहा था.

2. कई लड़कियों के एडमिशन फार्म में ही माता-पिता और संरक्षकों के नाम-पते गलत दर्ज मिले. ऐसे में यह भी पता नहीं चल पाया कि ये बच्चियां कहां से लाई गईं? कब लाई गईं?

3. आश्रम में जब निरीक्षण हुआ, तब वहां 80 अनाथ बच्चियां मिलीं. इनमें ज्यादातर उदयपुर के कोटड़ा से लाई गई थीं. इन बच्चियों को लेकर आश्रम में कोई रिकॉर्ड नहीं मिला.

4. आश्रम परिसर में प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूल और एक कॉलेज चल रहा है. आयोग की टीम को छात्राओं की संख्या 153 बताई गई, जबकि गिनती में 253 छात्राएं मिलीं. छात्राओं के नाम-पते अधूरे मिले. हद तो यह हो गई कि स्कूल-कॉलेज में एनरोलमेंट के रिकॉर्ड का भी रखरखाव नहीं मिला. सरकार की ओर से स्कूल और कॉलेजों के लिए जो रजिस्टर तय किए गए, वे भी आयोग की टीम ने मांगे तो आश्रम के पास नहीं थे.

राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने दाती आश्रम में मिली अनियमितताओं के बाद पाली कलेक्टर को पत्र लिखकर निरीक्षण रिपोर्ट के आधार पर बिंदुवार जांच कर रिपोर्ट देने को कहा. इस बारे में पाली कलेक्टर सुधीर शर्मा ने बताया है कि शिक्षा विभाग, बाल कल्याण समिति और संबंधित विभागों से कहा गया है कि वे जाकर दाती के आश्रम की जांच करें. जांच अंतिम चरण में है. हम जल्द ही महिला आयोग को अपनी रिपोर्ट भेज देंगे.



loading...