पूर्व कलेक्टर ओपी चौधरी ने थामा भाजपा का दामन, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने दिलाई सदस्यता

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में कांग्रेस पर बरसे पीएम मोदी, कहा- पहले जो अच्छे काम हुए, उन्हें रोका जा रहा है, इस महामिलावट से सावधान रहें

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 10 नक्सलियों को किया ढेर

आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल के बाद अब छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार ने राज्य में CBI के प्रवेश पर लगाई रोक

छत्तीसगढ़: भूपेश बघेल सरकार के मंत्रिमंडल का हुआ विस्तार, राज्यपाल ने मंत्रियों को दिलाई शपथ

छत्तीसगढ़: भूपेश बघेल ने सीएम बनते ही किसानों की कर्जमाफी का निभाया वादा, 2500 रुपए प्रति क्विंटल किया धान का समर्थन मूल्य

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस किसे बनाएगी मुख्यमंत्री, आज रात 8 बजे होगा फैसला

2018-08-28_op-chudhary-bjp.jpg

छत्तीसगढ़ के प्रशासनिक अमले और राजनीतिक गलियारों में चल रही तमाम अटकलों को विराम लगाते हुए पहले रायपुर के जिलाधिकारी आईएएस ओ पी चौधरी ने अपने पद से इस्तीफा दिया उसके बाद आज उन्होंने भाजपा का दामन थाम लिया। उनके आगामी विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार बनने को लेकर पहले से ही अटकलें लगाई जा रही थीं। आज अमित शाह ने दिल्ली मुख्यालय में उन्हें रमन सिंह की मौजूदगी में पार्टी सदस्य के तौर पर शपथ दिलाई। 

नौकरी से त्यागपत्र देने के बाद से ही चौधरी सोशल मीडिया पर अपने फैसले के बारे में जानकारी दे रहे थे। हालांकि चौधरी के भाजपा में शामिल होने के बारे में पार्टी की तरफ से कोई संदेश नहीं आया था। बीते शनिवार को साल 2005 बैच के आईएएस अधिकारी ओ पी चौधरी ने अपना इस्तीफा शासन को भेज दिया था। 

चौधरी को राज्य के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में शिक्षा में बदलाव लाने का श्रेय दिया जाता है। उनके भाजपा के टिकट से रायगढ़ जिले के प्रतिष्ठित खारसिया सीट से आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। 

खरसिया विधानसभा सीट छत्तीसगढ़ के प्रमुख विधानसभा सीट में से एक है। यह सीट कांग्रेस की परंपरागत सीट रही है और यहां से अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता अर्जुन सिंह भी चुनाव लड़ चुके हैं। 2013 के विधानसभा चुनावों से पहले बस्तर के दरभा क्षेत्र में झिरम घाटी नक्सली हमले में मारे गए कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार पटेल के बेटे उमेश पटेल खरसिया विधानसभा क्षेत्र के मौजूदा विधायक हैं। 

चौधरी रायगढ़ जिले में अन्य पिछड़ा वर्ग के अघरिया समुदाय से आते हैं जिससे वर्तमान विधायक पटेल हैं। अघरिया पटेल को क्षेत्र में कांग्रेस का वोट बैंक माना जाता है। चौधरी के यहां से चुनाव लड़ने से कांग्रेस के वोट बैंक में सेंध लग सकती है। चौधरी पिछले छह महीनों से रायगढ़ और खरसिया क्षेत्र में सक्रिय हैं। जिससे कयास लगाया जा रहा था कि वह यहां से चुनाव लड़ सकते हैं। 

भाजपा पार्टी में शामिल होने और लोगों की सेवा करने के लिए खेल, कला और साहित्य सहित विभिन्न क्षेत्रों से प्रमुख व्यक्तित्वों को आमंत्रित कर रही है। वहीं कांग्रेस ने चौधरी को "आरएसएस का एजेंट" कहा था और उन पर अपनी सेवा के दौरान सत्तारूढ़ भाजपा का समर्थन करने का आरोप लगाया था।



loading...