ताज़ा खबर

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का बजट सत्र से पहले राज्यसभा का कार्यकाल खत्म, खामोशी से हुई बतौर सांसद विदाई

2019-06-15_ManmohanSingh.jpg

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह का शुक्रवार को राज्यसभा में कार्यकाल खत्म हो गया. वे 28 साल तक राज्यसभा सांसद रहे. वे पहली बार 1991 में असम से राज्यसभा सांसद चुने गए थे. 1991 के बाद से यह पहला मौका है जब मनमोहन संसद से बाहर रहेंगे. मनमोहन पिछली बार असम से 2013 में राज्यसभा के सदस्य बने थे. नई सरकार बजट सत्र 17 जून से शुरू होने वाला है.

असम में राज्यसभा की सात में से दो सीट खाली हुई थीं. ये सीटें मनमोहन सिंह और एस कुजूर की थीं. दोनों का कार्यकाल 14 जून को खत्म हो गया. मई में इन सीटों पर चुनाव हुए. एक सीट भाजपा और दूसरी सीट असम गण परिषद (एजीपी) के हिस्से में गई. भाजपा के कामाख्या प्रसाद तासा और एजीपी के बिरेंदर प्रसाद ने निर्विरोध जीत दर्ज की.

खाली हुई दोनों राज्यसभा सीटों पर कांग्रेस और उसकी सहयोगी एआईयूडीएफ पार्टी ने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया था, क्योंकि उसके पास विधानसभा में सदस्यों की संख्या बहुत कम है. असम की 126 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के पास 26 और एआईयूडीएफ के 13 विधायक हैं, जबकि भाजपा के 60 विधायक हैं.

असम में अब भी कांग्रेस के चार राज्यसभा सांसद हैं. इनमें से भुबनेश्वर कलिता और डॉ. संजय सिन्ह का कार्यकाल 4 अप्रैल 2020 को खत्म होगा. इस दिन बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट पार्टी के बिश्वजीत डैमेरी का कार्यकाल भी खत्म हो रहा है. विधानसभा में सदस्यता को देखते संभावना है कि कांग्रेस के पास से यह सीटें जा सकती हैं.



loading...