ताज़ा खबर

निसान मोटर्स के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जमानत मिलने के बाद फिर किया गया गिरफ्तार, विश्वास हनन का लगा आरोप

पाकिस्तान के क्वेटा शहर की सब्जी मंडी में बम धमाका, 16 की मौत, 30 घायल

Mission Shakti: अमेरिका ने भारत के A-SAT परीक्षण का किया समर्थन, बताया किस वजह से किया टेस्ट

ब्रिटिश पुलिस ने विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को किया गिरफ्तार, वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में होंगे पेश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा- अगर नरेंद्र मोदी फिर से पीएम बनें तो शांति वार्ता के लिए बेहतर मौका होगा

मालदीव में मोहम्मद नशीद की पार्टी एमडीपी को 87 में से 60 सीटें मिली, अब चीन को ऐसे होगी दिक्कत

नेपाल में भारी बारिश और तूफ़ान का कहर, 27 की मौत, 400 से अधिक घायल, राहत-बचाव कार्य में जुटी सेना

2019-04-04_CarlosGhosn.jpg

निसान मोटर्स के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जमानत मिलने के बाद एक बार फिर गिरफ्तार कर लिया गया है. जापानी मीडिया के अनुसार घोसन को गुरुवार सुबह उनके घर से गिरफ्तार किया गया. घोसन पर भरोसा तोड़कर माहौल बिगाड़ने का आरोप है.

इससे पहले उन्हें 19 नवंबर, 2018 को गिरफ्तार किया गया था. फिर उन्हें 6 मार्च, 2019 को जमानत मिली. नए आरोपों में घोसन ने 2016 से 2018 के दौरान 4 अरब येन (3.4 करोड़ डॉलर) आय कम करके दिखाई थी. उनपर नवंबर में भ्रष्टाचार,कंपनी के पैसे का निजी इस्तेमाल का भी आरोप लगा था. हालांकि घोसन सभी आरोपों को खारिज कर चुके हैं. 

जापानी कानून के अनुसार, किसी आरोपी को अलग-अलग आरोपों के लिए कई बार गिरफ्तार किया जा सकता है. यह अभियोजकों को लंबे समय तक उससे पूछताछ करने की अनुमति देता है. हालांकि, दुनियाभर में इस प्रणाली की आलोचना होती है.

एक अमेरिकी मीडिया के अनुसार दूसरी बार गिरफ्तारी के बाद घोसन ने अपने प्रवक्ता के जरिए कहा है कि यह निसान कंपनी के कुछ लोगों की अभियोजकों को गुमराह कर उन्हें चुप कराने की कोशिश है. उन्होंने कहा है कि उनके खिलाफ लगे सभी आरोप गलत हैं. वह निर्देष हैं और हार नहीं मानेंगे. इससे पहले उन्होंने बुधवार को ट्विटर पर कहा था कि वह अगले हफ्ते प्रेस कॉन्फ्रेंस में सच्चाई बताएंगे. आपको बता दें वो घोसन ही थे जिन्होंने 20 साल पहले निसान कंपनी को दिवालिया होने से बचाया था.



loading...