निसान मोटर्स के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जमानत मिलने के बाद फिर किया गया गिरफ्तार, विश्वास हनन का लगा आरोप

पाकिस्तान: गुरूद्वारे के मुख्य ग्रंथी की बेटी को अगवा कर जबरन धर्मं परिवर्तन कराया, परिवार ने इमरान खान से मांगी मदद

भारत से तनाव के बीच पाकिस्तान ने किया बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण

पाकिस्तान: बिलावल भुट्टो ने कहा- पहले हम कश्मीर लेने की बात करते थे, अब मुजफ्फराबाद बचाने के लाले पड़े हैं

पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज को नेशनल एकाउंटिबिलिटी ब्यूरो ने किया गिरफ्तार

पाकिस्तान में लगे भारत के समर्थन में पोस्टर, ‘आज जम्मू-कश्मीर लिया है, कल बलूचिस्तान, पीओके भी लेंगे

अनुच्छेद 370 हटने पर पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग ने की सुरक्षा बढाने की मांग

2019-04-04_CarlosGhosn.jpg

निसान मोटर्स के पूर्व चेयरमैन कार्लोस घोसन को जमानत मिलने के बाद एक बार फिर गिरफ्तार कर लिया गया है. जापानी मीडिया के अनुसार घोसन को गुरुवार सुबह उनके घर से गिरफ्तार किया गया. घोसन पर भरोसा तोड़कर माहौल बिगाड़ने का आरोप है.

इससे पहले उन्हें 19 नवंबर, 2018 को गिरफ्तार किया गया था. फिर उन्हें 6 मार्च, 2019 को जमानत मिली. नए आरोपों में घोसन ने 2016 से 2018 के दौरान 4 अरब येन (3.4 करोड़ डॉलर) आय कम करके दिखाई थी. उनपर नवंबर में भ्रष्टाचार,कंपनी के पैसे का निजी इस्तेमाल का भी आरोप लगा था. हालांकि घोसन सभी आरोपों को खारिज कर चुके हैं. 

जापानी कानून के अनुसार, किसी आरोपी को अलग-अलग आरोपों के लिए कई बार गिरफ्तार किया जा सकता है. यह अभियोजकों को लंबे समय तक उससे पूछताछ करने की अनुमति देता है. हालांकि, दुनियाभर में इस प्रणाली की आलोचना होती है.

एक अमेरिकी मीडिया के अनुसार दूसरी बार गिरफ्तारी के बाद घोसन ने अपने प्रवक्ता के जरिए कहा है कि यह निसान कंपनी के कुछ लोगों की अभियोजकों को गुमराह कर उन्हें चुप कराने की कोशिश है. उन्होंने कहा है कि उनके खिलाफ लगे सभी आरोप गलत हैं. वह निर्देष हैं और हार नहीं मानेंगे. इससे पहले उन्होंने बुधवार को ट्विटर पर कहा था कि वह अगले हफ्ते प्रेस कॉन्फ्रेंस में सच्चाई बताएंगे. आपको बता दें वो घोसन ही थे जिन्होंने 20 साल पहले निसान कंपनी को दिवालिया होने से बचाया था.



loading...