बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र का लंबी बीमारी के बाद निधन

मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला: दिल्ली की अदालत ने ब्रजेश ठाकुर समेत 19 लोग दोषी करार, 28 जनवरी को सजा पर बहस

बिहार: वैशाली में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा- विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ा जाएगा

सीएम नीतीश कुमार का विधानसभा में बड़ा बयान, बोले- बिहार में एनआरसी लागू करने का कोई सवाल नहीं उठता

सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई का दावा, बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में नहीं हुई किसी लड़की की हत्या

नागरिकता कानून के खिलाफ बिहार में प्रदर्शनकारियों ने रोकी ट्रेन, यूपी में धारा 144 लागू

बिहार: मुजफ्फरपुर में दुष्कर्म के विरोध में जिंदा जलाई गई युवती ने तोड़ा दम

2019-08-19_jagganath.jpeg

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र का निधन हो गया. वो लंबे से बीमार थे और उनका इलाज दिल्ली के अस्पताल में चल रहा था. जगन्नाथ मिश्र तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री बने. 

जगन्नाथ मिश्र 1975 से 1977,  1980 से 1983 और 1989 से 1990 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे. लंबे समय तक जगन्नाथ मिश्र सक्रिय राजनीति में रहे लेकिन पिछले काफी समय से वो राजनीति से दूर थे.

जगन्नाथ मिश्र कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में शुमार रहे हैं. चारा घोटाले में भी जगन्नाथ मिश्र का नाम आया था और कोर्ट ने उन्हें दोषी करार दिया था. कोर्ट ने उनपर बीस हजार जुर्माना और 4 साल की सजा भी सुनाई थी. हालांकि बाद में मेडिकल ग्राउंड पर उन्हें जमानत मिल गई थी.

जगन्नाथ मिश्र और कर्पूरी ठाकुर बिहार के ऐसे मुख्यमंत्री माने जाते हैं जो पंचायत तक के नेताओं और कार्यकर्ताओं के नाम और घर का पता तक याद रखते थे और उन्हें चिट्ठी भी लिखा करते थे. वो राजनीतिक परिवार से थे और उनके बड़े भाई ललित नारायण मिश्र भी रेल मंत्री थे. 

जगन्नाथ मिश्र वैचारिक तौर पर कांग्रेसी ही रहे लेकिन बाद में वैचारिक टकराव के कारण वो शरद पवार की पार्टी एनसीपी में चले गए. इंदिरा गांधी के समय से लगातार वो सियासत में बहुत मजबूती से रहे. राजीव गांधी का दौर आया और पीवी नरसिम्हा राव से भी उनके अच्छे संबंध रहे.



loading...