हिमाचल प्रदेश: हिमस्खलन में बर्फ की चपेट में आए जवानों का अभी तक कोई सुराग नहीं, सेना का तलाशी अभियान जारी

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू में पर्यटकों से भरी बस गहरी खाई में गिरी, 15 की मौत, 25 घायल

लोकसभा चुनाव 2019: राहुल गांधी का दावा, नोटबंदी के समय पीएम मोदी ने अपनी कैबिनेट को ताले में बंद कर दिया था

हिमाचल प्रदेश में भूकंप, मंडी, सुंदरनगर, नेरचौक तक महसूस किए गए झटके, रिक्टर स्केल पर 4.2 थी तीव्रता

हिमाचल प्रदेश: शिमला के पास मंडी में गहरी खाई में गिरी जीप, 5 की मौत, 5 लोग घायल

हिमाचल प्रदेश: कांगड़ा में राहुल गांधी ने कहा- हमारी सरकार आई और कोई कर्मी ड्यूटी के दौरान शहीद हुआ तो उसे शहीद का दर्जा मिलेगा

हिमाचल प्रदेश ने पेश किया बजट, आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण, जानिए- किसको क्या मिला

2019-02-25_HimachalPradesh.jpg

हिमाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा पर स्थित शिपकी ला सीमा चौकी के पास गत बुधवार को हुई हिमस्खलन की घटना में लापता हुए थल सेना के पांच जवानों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. बुधवार को पूर्वाह्न 11 बजे राज्य के किन्नौर जिले में शिपकी ला सीमा चौकी के पास यह घटना हुई थी.

इसमें सेना की 7 जेएके राइफल्स के छह जवान (हिमाचल प्रदेश से चार, उत्तराखंड और जम्मू कश्मीर से एक-एक) हिमस्खलन होने से बर्फ में दब हो गए थे. हवलदार राकेश कुमार का पार्थिव शरीर उसी दिन बरामद कर लिया गया था जबकि पांच अन्य का अब भी कोई अता-पता नहीं है. एक जिला अधिकारी ने बताया कि लापता जवानों का पता लगाने के लिए एक तलाशी अभियान जारी है.

किन्नौर जिले की जन संपर्क अधिकारी ममता नेगी ने बताया कि पूह में मौसम साफ है लेकिन घटनास्थल के निकट आसमान में बादल छाये हुए है. उन्होंने बताया कि सोमवार की सुबह सात बजे राहत एवं बचाव अभियान फिर शुरू किया गया है. एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सेना की पश्चिमी कमान राहत एवं बचाव अभियान की निगरानी कर रही है.



loading...