बेंगलुरु में बिना अनुमति के खुला बिटकॉइन एटीएम जब्त, संचालक भी गिरफ्तार

कर्नाटक उपचुनाव परिणाम: लोकसभा और विधानसभा की 5 सीटों में से कांग्रेस जेडीएस गठबंधन को 4 पर जीत, बीजेपी के खाते में 1 सीट

कर्नाटक उपचुनाव: लोकसभा और विधानसभा की 5 सीटों पर वोटों की गिनती जारी, बेल्लारी में जीत की और बढ़ी कांग्रेस

कर्नाटक: बैंक मैनेजर ने लोन के बदले रखी सेक्स की डिमांड, महिला ने की जमकर धुनाई

बेंगलुरु में दिल दहला देने वाली घटना, 20 छात्रों के सामने प्रिंसिपल की बेरहमी से हत्या

कर्नाटक के डिप्टी सीएम जी परमेश्वर ने अपने गनमैन से साफ कराए जूते, सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा शर्म आनी चाहिए

कर्नाटक: कांग्रेस की विजय रैली के दौरान एसिड अटैक, 25 लोग जख्मी

2018-10-24_BitcoingATM.jpg

बेंगलुरु में बिना मंजूरी के देश का पहला बिटकॉइन एटीएम शुरू करने के आरोप में यूनोकॉइन टेक्नोलॉजी के को-फाउंडर हरीश बीबी को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. हरीश को सात दिन के लिए जेल भेजा गया है. इसके साथ एटीएम मशीन को भी जब्त किया गया है. यूनोकॉइन ने दावा किया था कि इसके जरिए बिटकॉइन की खरीद और बिक्री की जा सकती है. यूनोकॉइन और इसकी यूनिट यूनोडेक्स के ग्राहक हर रोज एटीएम से एक हजार से 10 हजार रुपए तक कैश जमा और निकासी कर सकते थे.

पुलिस ने बताया कि बेंगलुरु के पुराने एयरपोर्ट रोड स्थित एक मॉल में हरीश ने इस एटीएम को शुरू किया था. क्राइम ब्रांच ने यहां से 1.8 लाख रुपए कैश, एक टेलर मशीन, दो लैपटॉप, एक मोबाइल, तीन क्रेडिट कार्ड, पांच डेबिट कार्ड, एक पासपोर्ट समेत कई सामान जब्त किए. पुलिस ने लोगों से भी अपील की है कि वे बिटकॉइन को लेकर किए जा रहे दावों से दूर रहें.

सरकार ने फरवरी में बैंकों और वित्तीय संस्थानों के जरिए बिटकॉइन और दूसरी क्रिप्टोकरंसी के लेन-देन पर रोक लगा दी थी. इसके बाद सिर्फ वो ही यूजर क्रिप्टोकरंसी ट्रांजैक्शन कर पा रहे थे, जिनका विदेश में खाता है. ऐसे में यूनोकॉइन ने बिटकॉइन एटीएम का रास्ता निकाला था. यूनोकॉइन ईथरियम, यूनोडेक्स रिपल और लाइनकॉइन समेत 30 दूसरी क्रिप्टोकरंसी में डील करता है.
 
यूनोकॉइन के भारत में 13 लाख यूजर हैं. यूनोकॉइन के सीईओ और फाउंडर सात्विक विश्वनाथ का कहना था कि सरकार के बैन लगाने से पहले गिफ्ट कार्ड, बुक, सीडी गेम्स और बस टिकट खरीदने में बिटकॉइन का इस्तेमाल हो रहा था. अब भारतीय विदेश में ही इसका इस्तेमाल कर पाते हैं. विश्वनाथ के मुताबिक, ज्यादातर ग्राहक निवेश के तौर पर क्रिप्टोकरंसी खरीदते हैं. ताकि वैल्यू बढ़ने पर उसे बेचकर मुनाफा कमा सकें. सरकार के बैन लगाने के बाद यूनोकॉइन के यूजर की संख्या में 18% इजाफा हुआ है. दिसंबर 2013 में यूनोकॉइन की शुरुआत हुई थी.
 



loading...