ताज़ा खबर

मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल का निधन, आज ही दोपहर बाद होगा अंतिम संस्कार

चुनाव आयोग का PM मोदी की बायोपिक पर रोक लगाने के बाद निर्माताओं ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

सेना के राजनीतिक इस्तेमाल को लेकर राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखने की खबर का पूर्व सैन्य अधिकारियों ने किया खंडन

PM मोदी के नाम एक और उपलब्धि, रूस ने दिया अपना सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान ‘ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयूज’

राफेल मामले में राहुल गांधी के बयान के खिलाफ बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की अवमानना याचिका

जेट एयरवेज पर गहराया संकट, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने नागर विमानन सचिव से मांगी रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट का चुनावी बॉन्ड पर बड़ा फैसला, 30 मई तक सभी राजनीतिक दलों को चंदे की जानकारी देने के दिए निर्देश

2018-11-06_VinodAgrawal.jpg

अपने भजनों से लोगों के दिलों पर राज करने वाले मशहूर भजन गायक विनोद अग्रवाल नहीं रहे. भजन सम्राट विनोद अग्रवाल ने मथुरा के नयति अस्पताल में मंगलवार (06 नवंबर) को सुबह 4 बजे अंतिम सांस ली. भजन सम्राट विनोद अग्रवाल के सीने में दर्द की शिकायत होने के बाद उन्हें मथुरा के नयति मेडिसिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जानकारी के मुताबिक, पिछले दो दिनों से वह अस्पताल में भर्ती थे.

डॉक्टर्स के मुताबिक, सीने में दर्द की शिकायत के बाद पिछले दो दिनों से वह अस्पताल में भर्ती थे और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था और एक-एक करके उनके सभी अंगों ने काम करना बंद कर दिया था. जानकारी के मुताबिक, आज ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. उनकी अंतिम यात्रा दोपहर 1 बजे से गोविंद की गली, पुष्पांजलि वैकुंठ फेस 1, वृंदावन से शुरू होकर परिक्रमा मार्ग केसी घाट पर दोपहर करीब 3 बजे पहुंचेगी. यहां उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. 

भजन सम्राट विनोद अग्रवाल के परिजनों का कहना है कि वृंदावन स्थित आवास पर रविवार को उनकी अचानक तबीयत बिगड़ गई थी. रविवार की सुबह सीने में दर्द की शिकायत पर उन्हें नयति अस्पताल में भर्ती कराया गया था, तब से उनका वहीं इलाज चल रहा था.

विनोद अग्रवाल का जन्म 6 जून 1955 को दिल्ली में हुआ था. उनके पिता स्वर्गीय किशननंद अग्रवाल और मां स्वर्गीय रत्नदेवी अग्रवाल को भगवान कृष्ण और राधा पर अटूट विश्वास था. 1962 में माता-पिता और भाई-बहनों के साथ वो दिल्ली से मुंबई चले गए. महज 12 वर्ष की आयु में उन्होंने भजन गायन और हार्मोनियम बजाना सीख लिया. उनके भजन देश में ही नहीं विदेशों में भी सुने जाते हैं. 20 साल की उम्र में विनोद अग्रवाल की शादी कुसुमलता अग्रवाल से हो गई थी. उनके दो बच्चे जतिन और शिखा हैं, जिनकी शादी हो चुकी है. उनका बेटा जतिन मुंबई में कपड़ों का कारोबार करता है.

विनोद अग्रवाल देश-विदेश में 1500 से अधिक लाइव कार्यक्रम कर चुके हैं. उन्होंने ब्रिटेन, इटली, सिंगापुर, स्विटजरलैंड, फ्रांस, कनाडा, जर्मनी, आयरलैंड, दुबई समेत कई देशों में सफल कार्यक्रम किए. भजन गायक की मौत के बाद उन्हें पसंद करने वाले देश-विदेश के लोग शोक में है.



loading...