जम्मू-कश्मीर पर UN की रिपोर्ट पर भारत ने जताया कड़ा एतराज, दिया ये करारा जवाब

2019-07-08_RaveeshKumar.jpg

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय से जम्मू कश्मीर की स्थिति पर उसकी रिपोर्ट को लेकर भारत ने सोमवार को कड़ा एतराज जताया. इस रिपोर्ट को लेकर भारत ने कहा कि यह झूठ और राजनीति से प्रेरित विमर्श की निरंतरता मात्र भारत ने आरोप लगाया कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग पाकिस्तान से होने वाले सीमापार आतंकवाद के मूल मुद्दे की अनदेखी करता है.

आपको बता दें कि, पिछले साल संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयुक्त (ओएचसीएचआर) ने कश्मीर पर अपनी पहली रिपोर्ट जारी की थी. उसी रिपोर्ट को अपडेट करते हुए उसने दावा किया कि न तो भारत ने और न ही पाकिस्तान ने उठाई गई विभिन्न चिंताओं के समाधान के लिए कोई ठोस कदम उठाया है. 

इस रिपोर्ट पर एतराज जताते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘मानवाधिकारों के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के कार्यालय की जम्मू-कश्मीर की स्थितियों पर रिपोर्ट का अपडेट केवल पहले के झूठे और प्रेरित कथनों को आगे बढ़ाने जैसा है.’ उन्होंने कहा कि हमने मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय से इस रिपोर्ट के इस अपडेट को लेकर गहरा एतराज जताया है.

उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट में कही गई बातें भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का उल्लंघन करती हैं. इस रिपोर्ट में सालों से पाकिस्तान द्वारा चलाए जा रहे सीमापार आतंकवाद की वजह से बनी स्थिति का विश्लेषण इसके कारणों का उल्लेख किए बिना किया गया है. यह रिपोर्ट दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के साथ आतंकवाद का खुलेआम समर्थन करने वाले देश की बिना किसी आधार के बराबरी करने का काल्पनिक प्रयास भर है.



loading...