ताज़ा खबर

विदेश मंत्री एस जयशंकर को गुजरात को राज्यसभा भेज सकती है भाजपा

2019-06-04_Jaishankar.jpeg

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नए मंत्रिमंडल में विदेश मंत्री के रूप में शामिल एस जयशंकर गुजरात से राज्यसभा में भेजे जा सकते हैं. बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने गांधीनगर और स्‍मृति ईरानी ने उत्‍तर प्रदेश के अमेठी से लोकसभा चुनाव में जीतने के बाद राज्‍यसभा की सदस्‍यता से त्‍यागपत्र दे दिया था. दोनों नेता गुजरात के कोटे से राज्‍यसभा के सदस्‍य थे. समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार, इनमें से एक सीट पर एस जयशंकर को चुनकर राज्‍यसभा भेजा जा सकता है.

उधर, पटना साहिब से लोकसभा सदस्‍य के रूप में चुने गए रविशंकर प्रसाद भी राज्‍यसभा के सदस्‍य हैं और उनकी भी सीट खाली होने वाली है. माना जा रहा है कि रविशंकर प्रसाद की जगह बीजेपी सहयोगी दल लोक जनशक्‍ति पार्टी के अध्‍यक्ष रामविलास पासवान को राज्‍यसभा में भेज सकती है. रामविलास पासवान ने लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ा था और इस समय वे संसद के किसी भी सदन के सदस्‍य नहीं हैं. नियमों के अनुसार, केंद्रीय मंत्री को शपथ लेने के छह माह के भीतर सांसद बनना होता है. वह या तो निचले सदन के संसद सदस्य चुने जाने के लिए चुनाव लड़ सकते हैं या उन्हें राज्यसभा भेजा जा सकता है.

जयशंकर पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के कार्यकाल में 2015 से 2018 के बीच विदेश सचिव थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चौंकाने वाला फैसला लेते हुए उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया. विदेश मंत्री की जिम्मेदारी मिलने के बाद जयशंकर ने पहले ट्वीट में कहा था कि सुषमाजी के पद चिह्नों पर चलना उनके लिए गर्व की बात है.



loading...