गुजरात: गिर के जंगलों में 11 बब्बर शेरों की मौत, सरकार ने दिए जांच के आदेश

गुजरात के सरकारी कर्मचारियों पर पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी, सरकार ने 2 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता

कांग्रेस नेता अहमद पटेल के राज्यसभा चुनाव को लेकर दायर याचिका गुजरात हाईकोर्ट से गायब, 8 फरवरी से पहले सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट सौंपने का आदेश

सूरत में पीएम मोदी ने कहा- हमारी सरकार के बराबर काम करने के लिए पहली सरकार को 25 वर्ष लगते थे

आज से गुजरात दौरे पर पीएम मोदी, कई बड़ी योजनाओं का करेंगे शिलान्यास

Vibrant Gujarat Summit में मुकेश अंबानी ने प्रधानमंत्री मोदी से ‘डाटा के औपनिवेशीकरण' के खिलाफ कदम उठाने का किया आग्रह

वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत को टॉप 50 में पहुंचाने का लक्ष्य

2018-09-21_GirForestLiion.jpg

गुजरात के गिर के जंगलों में बीते कुछ दिनों के अंदर 11 शेर मृत पाए गए हैं. अफसरों को शक है कि इनमें से ज्यादातर की मौत आपसी झगड़े में हुई. सरकार ने प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यप्राणी) की अगुआई में इस मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं.

गिर (पूर्व) के उप वन संरक्षक पी पुरुषोत्तम ने गुरुवार को न्यूज एजेंसी को बताया कि खासतौर पर दलखानिया रेंज में शेरों की मौत हुई है. उनके 11 शव बरामद हुए हैं. गिर के जंगलों को प्रशासनिक तौर पर दो भागों- पूर्व और पश्चिम में बांटा गया . 

उन्होंने बताया कि बुधवार को एक शेर का शव अमरेली जिले के राजुला के जंगलों में मिला. इसी दिन दलखानिया के जंगलों में तीन और शव मिले. सात अन्य शव बीते कुछ दिनों में मिले.

वन एवं पर्यावरण विभाग के मुख्य सचिव डॉ. राजीव कुमार ने कहा, शुरुआत जानकारी बताती है कि इन शेरों में से आठ की मौत आपसी लड़ाई में जख्मी होने की वजह से हुईं. बाकी तीन की पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है.

प्रधान मुख्य संरक्षक (वन्यप्राणी) एके सक्सेना ने बताया कि शेरनी और शावकों को प्रभावित करने के लिए शेर आपस में लड़ते हैं. गिर के शेरों में तीन-चार साल से यह चलन ज्यादा देखने को मिल रहा है. 2015 में हुई शेरों की जनगणना के मुताबिक गिर के जंगलों में 520 शेर हैं.



loading...