मनी लॉन्ड्रिंग: लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा के खिलाफ ED ने दायर किया दूसरा आरोप-पत्र

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: सुप्रीमकोर्ट ने दिया मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर का मेडिकल टेस्ट कराने का आदेश

पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में JDU के मोहित प्रकाश ने मारी बाजी, ABVP का 3 सीटों पर कब्जा

तेज प्रताप का तलाक की अर्जी लेने से इनकार, कोर्ट ने ऐश्‍वर्या को भेजा नोटिस

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: सुप्रीमकोर्ट से बिहार सरकार को बड़ा झटका, सीबीआई को सौंपी 17 शेल्टर होम केस की जांच

मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: सुप्रीमकोर्ट ने बिहार सरकार को लगाई फटकार, कहा- 24 घंटे में ठीक करें FIR

तलाक मामला: तेजप्रताप यादव ने ने ट्वीट कर बयां किया दिल का हाल, लिखा- ‘टूटे से फिर ना जुटे, जुटे गांठ परि जाये.'

2018-01-06_missa-bharti-lalu-yadav.jpeg

मनी लॉन्ड्रिंग केस में आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव का परिवार मुश्किलों में है. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने इस केस में लालू की बेटी मीसा भारती और उनके पति के खिलाफ सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर की है.

इससे पहले जांच एजेंसी ने चारा घोटाला से जुड़े देवघर कोषाघार मामले पर फैसले के दिन मीसा भारती के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी. जिसके बाद अब ईडी ने पूरक चार्जशीट दायर की.

आपको बता दें कि 23 दिसंबर को अदालत में दाखिल आरोप पत्र ईडी ने मीसा के अलावा उनके पति शैलेश कुमार और अन्य को आरोपी बनाया था. ये पांच हजार करोड़ रुपये की मनी लॉन्ड्रिंग का मामला था जिसमें व्यवसायी गगन धवन के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया गया था. 

ईडी ने जुलाई में इस मामले के संबंध में भारती के चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र दायर किया था, जिसमें कुछ कारोबारियों समेत कारोबारी बंधु सुरेंद्र जैन और वीरेंद्र जैन सहित लगभग 35 लोग आरोपित थे. इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने 20 मार्च को जैन बंधुओं को गिरफ्तार किया था. इस मामले में ईडी ने मई में पहला आरोप-पत्र दायर किया था, जिसके बाद 22 मई को अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया.

जांच एजेंसी ने मीसा भारती और उनके पति के खिलाफ धन शोधन मामले की जांच के संबंध में दिल्ली का एक फार्महाउस कुर्क कर लिया था. दक्षिण दिल्ली के बिजवासन इलाके में 26, पालम फार्म्स में स्थित इस फार्महाउस को धन शोधन निरोधक अधिनियम पीएमएलए के तहत अस्थाई रूप से कुर्क किया गया.

केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि यह फार्महाउस मीसा और शैलेश कुमार का है और यह मिस मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर है. ईडी ने आरोप लगाया, यह साल 2008-09 में धन शोधन में शामिल 1.2 करोड़ रुपये का इस्तेमाल कर खरीदा गया है.

ईडी ने दो भाइयों सुरेंद्र कुमार जैन और विरेंद्र जैन तथा अन्यों के खिलाफ अपनी जांच के संबंध में जुलाई में इस फार्महाउस तथा अन्य जगहों पर छापे भी मारे थे. इन लोगों पर फर्जी कंपनियों का इस्तेमाल कर कई करोड़ रुपयों का धन शोधन करने का आरोप है.

ईडी ने पीएमएलए के तहत जैन बंधुओं को गिरफ्तार किया. जांच एजेंसी ने एक चार्टर्ड अकाउंटेंट राजेश अग्रवाल को भी गिरफ्तार किया, जिन्होंने अग्रिम राशि के तौर पर जैन बंधुओं को 90 लाख रुपये दिए ताकि मिस मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स लिमिटेड में शेयर प्रीमियम के तौर निवेश किया जा सकें.

प्रवर्तन निदेशालय का कहना है कि जैन बंधु, सीए अग्रवाल और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री की बेटी तथा दामाद 1.2 करोड़ रुपये के धन शोधन मामले के पीछे मुख्य आरोपी हैं.



loading...