ताज़ा खबर

अमेरिका और ईरान के बीच चरम पर विवाद, ट्रंप ने कड़े प्रतिबंध लगाने वाले कार्यकारी आदेश पर किए हस्ताक्षर

2019-06-25_IranAmerica.jpg

ईरान के साथ चल रहे तनाव के बीच अमेरिका ने उस पर नए प्रतिबंध लगा दिए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर कड़े प्रतिबंध लगाने वाले कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं. ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खम्नेई और उनकी सेना के आठ शीर्ष सैन्य कमांडर अब अमेरिका में वित्तीय सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाएंगे.

ट्रंप ने ये फैसला ईरान द्वारा बुधवार को अमेरिकी जासूसी ड्रोन गिराए जाने के बाद लिया है. ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन की उपस्थिति में ट्रंप ने हस्ताक्षर किए हैं. ट्रंप का कहना है कि अमेरिका ईरान को परमाणु हथियार नहीं बनाने देगा. अभी तक संयम बनाए रखा लेकिन आगे दबाव बनाए रखा जाएगा.

एक रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका ने ईरान में अपने निगरानी ड्रोन गिराए जाने के बाद ईरान की मिसाइल नियंत्रण प्रणाली और एक जासूसी नेटवर्क पर साइबर हमले किए हैं. रिपोर्ट ने लिखा है कि हमले से राकेट और मिसाइल प्रक्षेपण में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटरों को नुकसान पहुंचा है. हालांकि अमेरिका के रक्षा अधिकारियों ने इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं की है.

फारस की खाड़ी में ईरान और अमेरिका के बीच बढ़ता तनाव एक बड़े युद्ध की तरफ इशारा कर रहा है. इसकी शुरुआत पिछले साल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के साथ हुई परमाणु संधि तोड़कर की और बाद में इस खाड़ी देश पर कई प्रतिबंध लगा दिए गए. हाल ही में ओमान की खाड़ी में तेल के दो टैंकरों पर हमले के बाद तनाव और बढ़ गया.

अमेरिका ने इस हमले में ईरान का हाथ बताया जबकि ईरान ने इसका खंडन किया. इसके बाद अमेरिकी जासूसी ड्रोन को ईरान ने मार गिराया. ट्रंप ने इसी दिन ईरान पर हमले के आदेश दिए लेकिन दस मिनट में ही वे पीछे हट गए. लेकिन यहां के हालात अब भी तनावपूर्ण हैं.

ईरान इससे पहले कह चुका है कि अमेरिका के नए प्रतिबंधों का इस्लामिक गणराज्य के ऊपर कोई असर नहीं पड़ेगा. ईरानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अब्बास मूसावी ने कहा था कि हम नहीं जानते कि नए प्रतिबंध क्या होंगे और इससे अमेरिका क्या हासिल कर लेगा. प्रतिबंधों का क्या असर पड़ेगा, हमें इसकी चिंता नहीं है. क्या अमेरिका ने पिछले 40 साल में कोई ऐसा प्रतिबंध छोड़ा है जो अब वह ईरान के ऊपर लगाना चाहता है. हमें नए प्रतिबंधों की कतई चिंता नहीं है.



loading...