ज़मीन के नीचे है रहस्यों से भरी दुनिया; जानते हैं क्या हैं रहस्य

पेरेंट्स जिसे 4 साल तक बेटी समझते रहे वह निकला बेटा, पूरी बात सुनकर चौक जायेंगे आप

इस देश में शादी के बाद 3 दिनों तक दुल्हा-दुल्हन के टॉयलेट जाने पर है रोक, वजह जानकर चौक जायेंगे आप

ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद यह लड़की सीधे पहुंची 14 फीट के मगरमच्छ के साथ फोटो खिचाने, तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल

Video: इस महिला ने सुन्दर दिखने के लिए किया यह अजीबोगरीब काम, देखने के बाद लोगों ने की निंदा

गाय के गोबर से नीदरलैंड में बन रही फैशनेबल ड्रेस, स्टार्टअप करने वाली जलिला एसाइदी को मिला अवार्ड

आर्मेनिया में पति ने पत्नी की इस बात को लेकर 23 वर्ष में जमीन के अन्दर बना दिया महल

2018-06-15_Budapest.jpg

हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट में एक ऐसी अजब दुनिया है जो अपने आप कई रहस्य समेटे हुए है. वैसे बुडापेस्ट अपनी खूबसूरत इमारतों के लिए दुनिया भर में मशहूर है पर, यहाँ ज़मीन के 30 मीटर नीचे छुपी है एक आलीशान दुनिया. 

मौज-मस्ती वाली डाइविंग: बुडापेस्ट में अधिकतर इमारतें चूना पत्थर से बनी हैं. 1902 में खुदाई पत्थर निकालने के मकसद से नहीं की गई थी.बल्कि, जमीन के अंदर तहखाना बनाने के लिए की गई थी. उस दौर के लोगों ने जमीन की सतह से लगभग 30 मीटर नीचे 32 किलो मीटर लंबा तहखाना बनाया. 1990 में यहां बाढ़ आई तो तहखाने में पानी भर गया. जब गोताखोर सफाई करने तहखाने में उतरे तो उन्हें लगा कि तहखाने के कुछ हिस्से को मौज-मस्ती वाली डाइविंग के लिए प्रयोग किया जा सकता है. 

स्कूबा डाइविंग: कॉर्नेल ने ताइवान, मिस्र और क्रोएशिया के समुद्र तटों पर जाकर स्कूबा डाइविंग शुरू की. वो इस बात से बिल्कुल बेख़बर थे कि ये काम वो अपने घर से महज चार किलो मीटर की दूर पर भी कर सकते हैं. कॉर्नेल बताते हैं कि साल 2009 में उन्हें सबसे पहले उनके एक पड़ोसी ने बताया कि बुडापेस्ट में भी स्कूबा डाइविंग की जा सकती है.

इस काम के लिए उन्होंने मास्टर डाइविंग इंस्ट्रक्टर अत्तीला बोल्गर से संपर्क साधा, जिन्होंने शहर की जमीन के नीचे डाइव करने का रास्ता बताया. कोबानिया सुरंग के नजदीक चार ऐसी जगहें हैं, जहां ग़ोताखोरी की जा सकती है, पर इनमें से सिर्फ एक ही जगह बतौर डाइविंग के लिए इस्तेमाल की जाती है.

सावधानी बरतनी जरूरी है : इस साइट का नाम है पार्क कुत, सुरंग का ये ऐसा इलाका है जो खुला हुआ है और यहां ताजा हवा रहती है. लेकिन यहां गोताखोरी के लिए बुनियादी ओपन वॉटर डाइविंग सर्टिफिकेट की दरकार है. ये सर्टिफिकेट सुरक्षा कारणों से जरूरी है. क्योंकि सुरंग के अंदर चैंबर्स के अलावा सीढ़ियां भी हैं. यहां पानी का तापमान करीब 12 डिग्री सेल्सियस रहता है. पार्क कुत में पानी की सतह से करीब 17 मीटर नीचे और जमीन की सतह से करीब 47 मीटर नीचे तक ग़ोताखोरी की जा सकती है. सुरंग में बने सभी कक्षों तक पहुंचने में करीब 40 मिनट का समय लगता है. 

बाढ़ से बेअसर: तहखाने का बहुत सा हिस्सा बाढ़ से बेअसर रहा था. आज कल तहखाने के उसी हिस्से को आम जनता के लिए साल में कई मर्तबा खोला जाता है. लोग यहां कई तरह के मनोरंजक कार्यक्रम करते हैं. साइकिल रेस का मुकाबला भी आयोजित करते हैं.

खुफिया तहखाना : बहुत से इतिहासकारों के अंदाजे के मुताबिक़ कोबानिया चूना पत्थर की खान से करीब दस लाख क्यूबिक मीटर पत्थर खोद कर निकाला गया है. भले ही ये खान खुफिया है. लेकिन यहां के लोग इस बात के गवाह हैं कि यहां से कितना पत्थर निकाला जा चुका है. सुरंग की लंबाई कितनी है, ये यकीनी तौर पर बता पाना मुश्किल है. लेकिन, इतना जरूर कहा जा सकता है कि ये खुफिया तहखाना काफी दूर तक फैला है. कभी मौका लगे तो आप भी लगा आइए तहखाने में डुबकी.

आपको बता दें, ये एक ऐसी दुनिया है जिस बारे यहाँ के रहने वाले लोग जानते ही नहीं. उन्हें नहीं पता ज़मीन के अन्दर एक पूरी दुनिया अलग से चल रही है.



loading...