अधिकमास की अमावस्या में न करें ये काम, जीवन भर भुगतने होंगे ये परिणाम

2018-06-13_adhikmasamavsya.jpg

13 जून यानि आज अधिकमास की अमावस्या है. इसे मलमास की अमावस्या या पुरुषोत्तम माह की अमवस्या भी कहा जाता है. आज के बाद से मलमास या अधिकमास का महीना समाप्त हो जाएगा. दरअसल अमावस्या को पितृ की तिथि मानी जाती है, इसलिए इसका खास औचित्य होता है. 

अमावस्या के दिन किए गए उपाय विशेष फलदायी होते हैं. यदि कोई जातक रोग, कष्ट आदि से ग्रसित है तो इस दिन महामृत्युंजय जप और अनुष्ठान कर अपने सारे दुखों से मुक्ति पा सकता है. पर यह बात भी ध्यान देने की है कि अमावस्या के दिन कुछ कार्यों को करने से बचना चाहिए. मसलन:-

1. अमावस्या की रात सुनसान जगह पर ना जाएं क्योंकि अमावस्या की रात को भूत, पिशाच आदि जैसी बुरी शक्तियां सक्रिय हो जाती हैं. 

2. अमावस्या के दिन सुबह देर तक ना सोएं. जल्दी नहाकर स्नान कर सूर्य को जल चढ़ाएं और भगवान विष्णु की पूजा करें.

3. इस दिन लड़ाई से बचें. असल में ऐसा माना जाता है कि अमावस्या की रात हमारे पितृ आसपास ही होते हैं और हमें आर्शीवाद देने आते हैं. ऐसे में यदि घर में या घर से बाहर वाद-विवाद करते हैं तो पितरों की कृपा नहीं होती.

4. अमावस्या के दिन मांस मदिरा का सेवन भूल कर भी नहीं करना चाहिए. अगर आप नशा करते हैं तो आज के दिन भूल कर भी नशा ना करें.

5. इस दिन प्रेम संबंध ना बनाएं. गरुण पुराण के अनुसार अमावस्या पर संबंध बनाने से पैदा होने वाली संतान जीवन में कभी भी सुखी नहीं रह पाती है.



loading...