Dhanteras 2018: इस शुभ मुहूर्त में पूजा करने से माँ लक्ष्मी होंगी प्रसन्न, होगी अपार धन की वर्षा

2018-11-05_dhanteras.jpg

समुद्र मंथन से उत्पन्न लक्ष्मी को धन-धान्य की अधिष्ठात्री कहा गया है. मौजूदा परिवेश में धन व समृद्धि के बगैर जीवन जीना वास्तव में कठिन ही नहीं बल्कि असंभव सा हो गया है. धन न केवल जीने के लिए आवश्यक है, बल्कि मात्र दुनिया में यही ऐसा है, जो करोड़ों दोषों को दूर करता है और समाज में प्रसिद्धि व यश भी दिलाता है. धनतेरस के दिन श्री लक्ष्मी जी की साधना के लिए किए जाने वाले कुछ अनुभूत प्रयोग जो आपके लिए निश्चय ही आपके लिए परम लाभदायी सिद्ध होंगे.

धनतेरस के दिन किसी भी स्थिर लग्न में पूजा घर को साफ-सुथरा कर, भक्ति व श्रद्धापूर्वक महालक्ष्मी से यह प्रार्थना करें कि हे जगत जननी! आप मुझ पर प्रसन्न होवे. मैं किसी विधि-विधान से परिचित नहीं हूं. अतः यदि मुझसे कोई त्रुटि हो तो क्षमा करिएगा. यह मन में संकल्प लेकर निश्चित कर लें कि दीपावली के महानिशीथ काल तक मैं ‘श्री सूक्तम् ’ का १६० बार जाप करूंगा, यदि अधिक कर सकते है तो यह संख्या सामर्थ्य के अनुसार २४०, ३६०, ५४० आदि कर सकते हैं.

यदि बीते साल आपको बिजनेस में बहुत ज्यादा घाटा हुआ है और आप इस समय बहुत आर्थिक संकट से गुजर रहे हैं तो आप निम्न मंत्र का 80,000 हजार बार जाप करके हवन करें. आपको चमत्कारिक परिणाम मिलेगा.

देहि सौभाग्यमारोग्यं देहि मे परमं सुखम् ।
रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

यदि आप कर्ज के बोझ तले दबे हुए हैं और तमाम कोशिशों के बावजूद भी श्रम के मुताबिक धन अर्जित नहीं हो पा रहा है या आय से अधिक व्यय हो रहा है, तो आप इस उपाय को अवश्य करें. धनतेरस के दिन किसी शुभ स्थिर लग्न से श्री सूक्तम् या कनकधारास्तोत्रम् का पाठ प्रारंभ करें. धनतेरस के दिन 11 पाठ, हनुमान जयंती के दिन 22 पाठ, दीपावली के दिन 111 पाठ या 64 पाठ, गोवर्धन पूजा के दिन 44 पाठ, भाई दूज के दिन 33 पाठ करें. ध्यान रहे कि प्रातः तथा रात्रि में नियमित रूप से पांचो दिन महालक्ष्मी की आरती अवश्य करें.

यदि आप लगातार गरीबी के संकट से गुजर रहे हैं और आपके दुखों का अंत नहीं हो रहा है तो आप इस धनतरेस के दिन इस उपाय को अवश्य करके देखें. यदि बिजनेस में सब कुछ डूब गया हो या आप बेरोजगार हों और मन हमेशा चिंता से घिरा रहता है तो इस धनतेरस इस मंत्र का श्रद्धापूर्वक जाप करें. निश्चय ही मां जगदंबा आपका कल्याण करेंगी.

दुर्गे स्मृता हरसि भीतिमशेषजंतोः
स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभांददासि।
दारिद्रयदुःखभयहारिणी का त्वदन्या।
सर्वोपकारकरणाय  सदाऽऽद्र्रचित्ता।।

मंत्र संख्या 24000, 54,000, 1,25,000 सामर्थ्य के अनुसार पहले ही निर्धारित कर लें.



loading...