सुप्रीमकोर्ट का बड़ा आदेश, दिल्ली के रिहायशी इलाकों में चल रही फैक्ट्रियां 15 दिन में बंद हों

गुरुग्राम मामले को लेकर भड़के दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, हिटलर से की पीएम मोदी की तुलना

भगोड़े विजय माल्या पर कसा शिकंजा, दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने संपत्ति कुर्क करने का दिया आदेश

लोकसभा चुनाव: दिल्ली में आप और कांग्रेस के गठबंधन के लिए आगे आए शरद पवार, शीला दीक्षित ने आवास पर बुलाई बैठक

लोकसभा चुनाव: दिल्ली में आप से गठबंधन को लेकर दो गुटों में बंटी कांग्रेस, शीला के बाद पीसी चाको ने राहुल गांधी को लिखी चिट्ठी

आप विधायक अलका लांबा का सीएम केजरीवाल पर गंभीर आरोप, बंद कमरे में अभद्र और आपत्तिजनक बातें कहते हैं

लोकसभा चुनाव 2019: दिल्ली में आप और कांग्रेस के बीच गठबंधन तय, आज ऐलान संभव

2018-10-11_SC.jpg

दिल्ली में सीलिंग मामले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उपराज्यपाल अनिल बैजल को फटकार लगाई है. आज गुरुवार (11 अक्टूबर) को मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा कि यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि 15 साल हो गए मॉनिटरिंग कमिटी को गठित करें हुए लेकिन आज भी दिल्ली में रिहायशी इलाकों में इंडस्ट्रियल यूनिट चल रही है. उपराज्यपाल अनिल बैजल को फटकार लगाते हुए कोर्ट ने कहा कि वह कोर्ट को आश्वस्त करें कि जितने भी रिहायशी इलाके हैं जहां अवैध तरीके से इंडस्ट्रियल यूनिट चल रहे हैं उन्हें 15 दिन के अंदर सील किया जाए.

31 जनवरी को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने डीडीए और अन्य पार्टियों से दिल्ली का मास्टर प्लान लाने के निर्देश दिए थे. अदालत ने कहा था कि अगर एक बार यह मान लिया जाए कि मॉनिटरिंग कमेटी को भंग कर दें तो क्या निगम ऐसे मामलों में कार्रवाई नहीं कर सकता?

आपको बता दें कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में दिल्ली सरकार को फटकार लगाई थी. कोर्ट ने दिल्ली सीलिंग पर सख्त रुख अपनाते हुए कहा था कि पूरी दिल्ली में अवैध निर्माण हो रहा है. कोर्ट ने दिल्ली सरकार और नगर निगम से कहा कि आप लोग दिल्ली में तबाही का इंतजार कर रहे हैं.



loading...