ताज़ा खबर

दिल्ली में सफाई कर्मचारियों की पिछले 28 दिन से हड़ताल जारी, केंद्र सरकार ने बकाया भुगतान देने से किया इनकार

Delhi-NCR में कल शाम से कुछ इलाकों में बारिश, पहाड़ी इलाकों में जमकर हो रही बर्फबारी

दिल्ली मेट्रो: ब्लू लाइन पर लगातार दूसरे दिन भी स्पीड पर लगा ब्रेक, रुक-रुक कर चल रही मेट्रो, यात्री परेशान

दिल्ली के इंद्रपुरी इलाके में 7वीं कक्षा की छात्रा ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में मिले चौकाने वाले खुलासे

दिल्ली: संसद के सामने किसनों का धरना, रैली में पहुंचे केजरीवाल ने कहा- आप लोगों का स्वागत है आप बार-बार दिल्ली आइये

दिल्ली: रामलीला मैदान पहुंचे देशभर से आए हजारों किसान, थोड़ी देर में संसद की ओर करेंगे मार्च

दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर की 10वीं मंजिल से कूदकर ACP प्रेम बल्लभ ने की खुदखुशी, जांच में जुटी पुलिस

2018-10-09_SanitationWorkers.jpg

दिल्ली में अपनी मांगों को लेकर बीते 28 दिनों से सफाईकर्मी हड़ताल पर है. आपको बता दें कि अपने बकाया वेतन की मांग को लेकर सफाई कर्मचारी 12 सितंबर से हड़ताल पर है. साथ ही उनकी ये भी मांग है कि जो सफाई कर्मचारी अनियमित हैं उनकी नौकरी पक्की की जाए और सैलरी नियमित रूप से दी जाए. हड़ताल के कारण पूर्वी दिल्ली में सडकों पर जगह-जगह कूड़े के ढेर लग गए हैं. इस मामले पर केंद्र सरकार ने किसी भी तरह से मदद से इंकार कर दिया है.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और दिल्ली के उपराज्यपाल की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल मनिंदर सिंह से पूछा था कि क्या वह भी मौजूदा संकट से निपटने के लिए समान राशि जारी कर सकते हैं. इस पर केंद्र सरकार ने कोर्ट को बताया कि वो सफाई कर्मचारियों के बकाया भुगतान के लिए कोई रकम नहीं देगी. केंद्र सरकार की ओर से ASG मनिंदर सिंह ने कहा कि ऐसा कोई संवैधानिक प्रावधान या नियम नहीं है कि केंद्र एमसीडी को ऐसा कोई फंड जारी करें.

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने लिखित आदेश में कहा कि हमे उम्मीद थी कि दिल्ली सरकार की तरह केंद्र सरकार भी मानवीय आधार पर ऐसा ही कदम (सफाई कर्मचारियों के बकाया भुगतान) के लिए उठाएगी, लेकिन ये दुर्भाग्यपूर्ण और त्रासदीपूर्ण है कि केंद्र सरकार ने अपने हलफनामे में कहा गया है कि वो कोई ऐसा पेमेंट करने के लिए तैयार नहीं है.

पिछली सुनवाई में दिल्ली सरकार ने कोर्ट को बताया था कि वो एमसीडी की सफाई कर्मचारियों की बकाया सैलेरी देने के लिए 500 करोड़ देने के लिए तैयार है. इस पर कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा था कि क्या केंद्र सरकार भी इतनी ही रकम देने को तैयार है? इसके जवाब में ASG ने कोर्ट को इसकी जानकारी दी. अब दिल्ली सरकार के हलफनामे के जवाब में केंद्र सरकार को 24 अक्टूबर तक हलफनामा दाखिल करना है.



loading...