CBI संग्राम: राकेश अस्थाना के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक एस. एस. गुर्म

CBI विवाद: CVC की जांच में आलोक वर्मा को क्लीन चिट नहीं, 20 नवंबर को फिर होगी सुनवाई

गणतंत्र दिवस पर मुख्‍य अतिथि हो सकते हैं दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्रपति सीरिज रमाफोसा

शाहिद अफरीदी के पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे, कश्मीर क्या संभालेंगे वाले बयान पर राजनाथ सिंह ने कही ये बात

NSG ने चिट्ठी लिखकर बताया, लाल कृष्ण आडवाणी, गुलाम नबी आजाद और फारूक अब्दुल्ला की सुरक्षा में हुई लापरवाही

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा- भगवान राम भी नहीं चाहेंगे कि किसी विवादास्‍पद स्‍थल पर मंदिर बने

ISRO को अंतरिक्ष में मिली बड़ी सफलता, श्रीहरिकोटा से लांच किया संचार उपग्रह जीसैट-29

2018-10-31_Rakesh.JPG

सीबीआई के अपर पुलिस अधीक्षक एस. एस. गुर्म ने दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को आरोप लगाया कि घूसखोरी के एक मामले में अपने खिलाफ दायर प्राथमिकी को निरस्त करने की मांग को लेकर याचिका दायर करने वाले विशेष निदेशक राकेश अस्थाना 'चुनिंदा' तथ्यों को रख कर अदालत को गुमराह कर रहे हैं. 

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच खींचतान के कारण सीबीआई के अन्य अधिकारियों के साथ गुर्म का भी तबादला कर दिया गया है. गुर्म ने अस्थाना द्वारा दायर याचिका में एक पक्ष बनाये जाने की मांग की है.

आपको बता दें कि गुर्म का दिल्ली से जबलपुर तबादला कर दिया गया है. उन्होंने मामले में उनका पक्ष सुने जाने का मौका दिये जाने की मांग की है.

दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष दायर एक आवेदन में अपर पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि उन्हें अंदेशा है कि सीबीआई अस्थाना को बचाने और सहयोग का प्रयास कर रही है और वह याचिका का जोरदार विरोध नहीं करेगी. उन्होंने अस्थाना की याचिका खारिज करने की भी मांग की.

आपको बता दें कि राकेश अस्थाना, पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार और कथित बिचौलिया मनोज प्रसाद ने अलग-अलग याचिकाओं में अपने खिलाफ दायर प्राथमिकी को निरस्त करने की मांग की है. न्यायमूर्ति नजमी वजीरी इन याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करेंगी.



loading...