ताज़ा खबर

CBI संग्राम: राकेश अस्थाना के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक एस. एस. गुर्म

चुनाव आयोग का PM मोदी की बायोपिक पर रोक लगाने के बाद निर्माताओं ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

सेना के राजनीतिक इस्तेमाल को लेकर राष्ट्रपति को चिट्ठी लिखने की खबर का पूर्व सैन्य अधिकारियों ने किया खंडन

PM मोदी के नाम एक और उपलब्धि, रूस ने दिया अपना सर्वोच्‍च नागरिक सम्‍मान ‘ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयूज’

राफेल मामले में राहुल गांधी के बयान के खिलाफ बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की अवमानना याचिका

जेट एयरवेज पर गहराया संकट, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने नागर विमानन सचिव से मांगी रिपोर्ट

सुप्रीम कोर्ट का चुनावी बॉन्ड पर बड़ा फैसला, 30 मई तक सभी राजनीतिक दलों को चंदे की जानकारी देने के दिए निर्देश

2018-10-31_Rakesh.JPG

सीबीआई के अपर पुलिस अधीक्षक एस. एस. गुर्म ने दिल्ली हाईकोर्ट में बुधवार को आरोप लगाया कि घूसखोरी के एक मामले में अपने खिलाफ दायर प्राथमिकी को निरस्त करने की मांग को लेकर याचिका दायर करने वाले विशेष निदेशक राकेश अस्थाना 'चुनिंदा' तथ्यों को रख कर अदालत को गुमराह कर रहे हैं. 

सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और अस्थाना के बीच खींचतान के कारण सीबीआई के अन्य अधिकारियों के साथ गुर्म का भी तबादला कर दिया गया है. गुर्म ने अस्थाना द्वारा दायर याचिका में एक पक्ष बनाये जाने की मांग की है.

आपको बता दें कि गुर्म का दिल्ली से जबलपुर तबादला कर दिया गया है. उन्होंने मामले में उनका पक्ष सुने जाने का मौका दिये जाने की मांग की है.

दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष दायर एक आवेदन में अपर पुलिस अधीक्षक ने दावा किया कि उन्हें अंदेशा है कि सीबीआई अस्थाना को बचाने और सहयोग का प्रयास कर रही है और वह याचिका का जोरदार विरोध नहीं करेगी. उन्होंने अस्थाना की याचिका खारिज करने की भी मांग की.

आपको बता दें कि राकेश अस्थाना, पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार और कथित बिचौलिया मनोज प्रसाद ने अलग-अलग याचिकाओं में अपने खिलाफ दायर प्राथमिकी को निरस्त करने की मांग की है. न्यायमूर्ति नजमी वजीरी इन याचिकाओं पर गुरुवार को सुनवाई करेंगी.



loading...