दिल्ली हाईकोर्ट से राकेश अस्थाना और देवेंद्र कुमार को झटका, एफआईआर रदद् करने वाली याचिका खारिज, लगे थे घूस लेने के आरोप

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज संसद के संयुक्त सत्र को करेंगे संबोधित, बताएंगे मोदी सरकार का एजेंडा

लोकसभा में रामदास आठवले ने कुछ इस तरफ से दिया भाषण कि पीएम मोदी समेत हर कोई अपनी हंसी रोक नहीं पाया

मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जाकिर नाईक को 31 जुलाई तक कोर्ट में पेश होने का आदेश, वरना जारी होगा वारंट

ओम बिड़ला निर्विरोध लोकसभा अध्यक्ष चुने गए, हाथ पकड़कर कुर्सी तक ले गए पीएम मोदी

‘एक देश एक चुनाव’ पर पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, ममता-माया के बाद कांग्रेस ने भी शामिल होने से किया इनकार

मानसून की रफ्तार धीमी होने से बारिश में 44 फीसदी की कमी, 12 वर्ष में ऐसा पहली बार हुआ

2019-01-11_RakeshAsthana.jpg

दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीआई के विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना और डिप्टी एसपी देवेंद्र कुमार की याचिका खारिज कर दी है. याचिका में दोनों ही अधिकारियों ने अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद्द करने की मांग की थी. न्यायमूर्ति नाजमी वजीरी ने सीबीआई के उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार और कथित बिचौलिये मनोज प्रसाद के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने से भी इंकार किया.

उच्च न्यायालय ने यह फैसला अस्थाना, कुमार और प्रसाद की याचिकाओं पर सुनाया. इन तीनों ने उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी. अस्थाना पर भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की धाराओं के तहत आपराधिक कदाचार, भ्रष्टाचार और आपराधिक साजिश के आरोप हैं.

हैदराबाद के कारोबारी सतीश बाबू सना ने एक मामले में राहत पाने के लिए कथित रूप से रिश्वत दी थी. सना की शिकायत पर ही प्राथमिकी दर्ज हुई है. सना ने अस्थाना पर भ्रष्टाचार, रंगदारी और गंभीर कदाचार के आरोप लगाये थे.

पूर्व निदेशक आलोक वर्मा को दी शिकायत में उन्होंने कहा था,'मुझे और मेरे परिवार को झूठे केस में टॉर्चर न किया जाए’, केवल इस प्रताड़ना से बचने के लिए मैंने देश की सर्वश्रेष्ठ जांच एजेंसी के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को उनके आदमियों के हाथ कथित तौर से 2.95 करोड़ रुपए पहुंचा दिए थे. कुल पांच करोड़ रुपये की बात हुई थी. बाकी की राशि लगभग दो करोड़ रुपये देने में थोड़ी देरी हो गई. इसी बात पर अस्थाना नाराज हो गए और उन्होंने मेरे खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी करा दिया.



loading...