ताज़ा खबर

गुजरात: फैक्ट्री में पिटाई से दलित की मौत, पुलिस के हत्थे चढ़े 4 आरोपी

Vibrant Gujarat Summit में मुकेश अंबानी ने प्रधानमंत्री मोदी से ‘डाटा के औपनिवेशीकरण' के खिलाफ कदम उठाने का किया आग्रह

वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में पीएम मोदी ने कहा- कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत को टॉप 50 में पहुंचाने का लक्ष्य

गुजरात: चलती ट्रेन में बीजेपी के पूर्व विधायक जयंती भानुशाली की बदमाशों ने गोली मारकर की हत्या

अहमदाबाद: हॉस्पिटल से 35 किमी दूर बैठे थे डॉक्टर, रोबोट के जरिए किया दिल का ऑपरेशन

गुजरात: अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमले में शामिल आरोपी 16 साल बाद गिरफ्तार

गुजरात दंगा: पीएम मोदी के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर अब 26 नवंबर को सुनवाई करेगा सुप्रीमकोर्ट

2018-05-21_gujaratman.jpg

गुजरात से एक पिटाई का मार्मिक मामला उजागर हुआ है. यहाँ एक फैक्ट्री मालिक ने एक दलित मजदूर को रस्सी से बांधकर पीटा. मालिक ने इतनी पिटाई कि उसकी मौत हो गयी. इस घटना का विडियो विधायक जिग्नेश मेवानी ने शेयर किया और दुःख जताया. उन्होंने लिखा, ''यह ऊना से भी डरावनी घटना है. वहां दलितों की बेहरमी से पिटाई की गई और उन्हें गालियां दी गई थीं. अब इस हिंसक घटना में एक शख्स की जान चली गई. पीड़ित मुकेश वानिया अनुसूचित जाति से ताल्लुक रखता था. उसे फैक्ट्री मालिक ने बुरी तरह पीटा, जिसमें मुकेश की मौत हो गई. उसकी पत्नी को भी पीटा गया. गुजरात सरकार ने पिछली गलतियों से सबक नहीं लिया.''

पिटाई की ये घटना रविवार को राजकोट शहर के पास एक फैक्ट्री में घटी है. आरोप है कि फैक्ट्री मालिक और उसके कुछ साथियों ने चोरी के शक में मजदूर और उसके परिवार को बुरी तरह से पीटा. राजकोट पुलिस ने हत्या का केस पंजीकृत कर 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. 

डीएसपी डीएम चौहान के अनुसार, कुछ दिन पहले मुकेश (40), पत्नी जया और एक अन्य महिला सविता के साथ फैक्ट्री में काम के लिए सुरेंद्रनगर से आया था. चोरी के शक में तीनों के साथ कुछ लोगों ने मारपीट की. इस मामले में 5 लोगों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज हुआ है, 4 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है. इनके नाम चिराग वोरा, दिव्येश वोरा, जयसुख रडादिया और तेजस जाला हैं. पांचवां आरोपी नाबालिग है.

पुलिस को एक आरोपी के मोबाइल में 28 सेकंड का वायरल हो रहा वीडियो मिला है. जिसमें देखा जा सकता है कि मुकेश को फैक्ट्री के गेट से बांधकर रॉड से पीटा गया. जांच के लिए फैक्ट्री के सीसीटीवी फुटेज भी कब्जे में ली गई हैं.

आपको बता दें जुलाई, 2016 में भी कथित गोरक्षकों ने 4 दलितों को कपड़े उतारकर पीटा था. इसका वीडियो सामने आने पर देश की राजनीति में दलित अत्याचार का मुद्दा गरमाया था.

सूत्रों की माने मुकेश और उसकी पत्नी औद्योगिक क्षेत्र में कचरा जमा करने के लिए गए थे. तभी फैक्ट्री के लोगों ने उन्हें चोरी के आरोप में पकड़ लिया. इस बीच मुकेश के साथ गई एक महिला भागने में कामयाब हो गई. वह लोगों को लेकर लौटी और मुकेश को छुड़ाकर अस्पताल ले गई, पर बीच रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया.



loading...