राहुल गांधी की बैठक में घुस रही कांग्रेस विधायक ने महिला पुलिसकर्मी को मारा थप्पड़

हिमाचल प्रदेश: कांगड़ा में राहुल गांधी ने कहा- हमारी सरकार आई और कोई कर्मी ड्यूटी के दौरान शहीद हुआ तो उसे शहीद का दर्जा मिलेगा

दिल्ली-एनसीआर में बारिश से बदला मौसम, जम्मू कश्मीर, हिमाचल, यूपी, उत्तराखंड में हो सकती है बर्फबारी

हिमाचल प्रदेश: हिमस्खलन में बर्फ की चपेट में आए जवानों का अभी तक कोई सुराग नहीं, सेना का तलाशी अभियान जारी

हिमाचल प्रदेश ने पेश किया बजट, आर्थिक रूप से कमजोर सामान्य वर्ग के लोगों को मिलेगा 10 फीसदी आरक्षण, जानिए- किसको क्या मिला

तेज हवाओं और बारिश से दिल्ली-NCR में बढ़ी ठंड, कई इलाकों में छाया घना अंधेरा

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में पर्यटकों से भरी बस गहरी खाई में गिरी, 33 लोग घायल, 10 की हालत नाजुक

2017-12-29_Himachal-Congress-MLA-slaps.jpeg

शिमला में कांग्रेस की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचीं विधायक आशा कुमारी एक महिला कॉन्स्टेबल से भिड़ गईं। बात इतनी बढ़ी की दोनों ने एक दूसरे को थप्पड़ मार दिए। बताया जा रहा है कि पुलिस ने विधायक को कथित तौर पर मीटिंग हॉल में जाने से रोका था। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार की वजह पर चर्चा के लिए राहुल गांधी की अगुआई में यह मीटिंग बुलाई गई।

मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन शिमला में राहुल गांधी पार्टी की हार की समीक्षा करने पहुंचे हैं। कांग्रेस विधायक आशा कुमारी को महिला पुलिस कांस्टेबल ने अंदर जाने से रोक दिया। इस पर दोनों में बहस हो गई। देखते ही देखते बात इतनी बढ़ गई कि कांग्रेस विधायक आशा कुमारी ने पहले महिला पुलिस कांस्टेबल को तमाचा मारा और साथ ही साथ महिला पुलिस कांस्टेबल ने भी आशा कुमारी को तमाचे जड़ दिए।

घटना के दौरान सोलन से कांग्रेस विधायक धनी राम शांडिल भी वहां मौजूद थे। मौके पर मौजूद लोगों ने मामला शांत करवाया। ‌सोशल मीडिया पर यह वीडियो खूब वायरल हो रहा है। फिलहाल अभी किसी तरह का मामला दर्ज नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि कांग्रेस विधायक आशा कुमारी को महिला कांस्टेबल ने काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन वह नहीं मानी और महिला कांस्टेबल को तमाचा जड़ दिया।

मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि कांग्रेस विधायक का यह व्यवहार बिल्‍कुल गलत है। महिला कांस्टेबल अपनी ड्यूटी निभा रही थी ऐसे में उसने कोई गलती नहीं की। फिलहाल पुलिस अफसरों की तरफ से अभी इस पर कोई बयान नहीं आया है।

बता दें कि हिमाचल प्रदेश में 9 नवंबर को एक फेज में वोटिंग हुई थी। 18 दिसंबर को आए नतीजों में पार्टी सत्ता से बाहर हो गई। राज्य की कुल 68 सीटों में से बीजेपी को 44 और कांग्रेस को सिर्फ 21 सीटें मिलीं।



loading...