सुनंदा पुष्कर ने खुदकुशी नहीं की, उनकी हत्या हुई थी? दिल्ली पुलिस की सीक्रेट रिपोर्ट

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज के बयान पर सुब्रमण्यम स्वामी ने दिया करारा जवाब, कहा- मुशर्रफ को पसंद करने वालों को पाकिस्तान भेजेंगे

जस्टिस चेलमेश्वर आज सुप्रीम कोर्ट से हो जायेंगे रिटायर, कोलेजियम में बड़ा बदलाव

नोटबंदी के दौरान सबसे ज्यादा पुराने नोट जिस बैंक में जमा हुए उसके निदेशक हैं अमित शाह, आरटीआई से खुलासा

अलकायदा, आईएस के नए संगठनों पर मोदी सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नौकरी के नाम पर UP के युवाओं से घाटी में पत्थरबाजी के लिए बनाया दबाव, जान बचाकर लौटे युवक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

2018-03-12_murder-sunanda.jpg

बहुचर्चित सोशलाइट और सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत कैसे हुई, यह घटना के पहले दिन से रहस्य है. लेकिन दिल्ली पुलिस की एक रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा पुष्कर की मौत हादसा नहीं, बल्कि हत्या थी. हमारे सहयोगी अखबार डीएनए के पास दिल्ली पुलिस की शुरुआती रिपोर्ट है, जिसके अनुसार पुष्कर की मौत के बाद उनके शरीर पर जो निशान पाए गए हैं. वह मार-पीट के हैं. रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा पुष्कर के शरीर पर चोट के कई निशान थे. यह रिपोर्ट तत्कालीन ज्वॉइंट कमिश्नर को सौंपी गई है. रिपोर्ट में बताया गया है कि झगड़े की वजह से सुनंदा पुष्कर के शरीर पर जख्म के निशान थे. दिल्ली पुलिस की पहली रिपोर्ट में भी सुनंदा पुष्कर के हत्या की बात कही गई थी. वर्ष 2010 में शशि थरूर से विवाह करने वाली पुष्कर को दिल्ली के लीला पैलेस होटल में 17 जनवरी 2014 को संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाया गया था.

इस केस में तत्कालीन पुलिस उपायुक्त बीएस जायसवाल के नेतृत्व में दिल्ली पुलिस की पहली रिपोर्ट में साफ तौर पर कहा गया था कि वसंत कुंज के सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट आलोक शर्मा, जिन्होंने लीला होटल में घटनास्थल का निरीक्षण और जांच-पड़ताल की थी, ने कहा था कि यह खुदकुशी नहीं है. रिपोर्ट के अनुसार शुरुआती जांच से असंतुष्ट सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट ने सरोजिनी नगर के स्टेशन हाउस ऑफिसर को आदेश दिया था कि इस केस की जांच हत्या के तौर पर करे. ऑटोप्सी रिपोर्ट के बाद यह फैसला लिया गया, जिसमें कहा गया था, ‘मेरी जानकारी में मौत जहर खाने से हुई है. परिस्थितिजन्य साक्ष्य अल्प्राजोनम प्वाइजनिंग की ओर इशारा करती है. जितनी भी चोटों का जिक्र किया गया है वे सभी सामान्य तौर पर मार-पीट के थे. सिवाए चोट नंबर 10 और 12 के. चोट नंबर 10 जो इंजेक्शन की वजह से था और चोट नंबर 12 पर दांतों के काटने के निशान थे. 1 से 15 तक जितने भी अलग-अलग चोट के निशान थे, वे सभी 12 घंटे से लेकर 4 दिनों तक के थे.’ रिपोर्ट में बताया गया है कि इंजेक्शन के निशान ताजा थे.

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सुनंदा पुष्कर के शरीर पर मार-पीट और हाथापाई के निशान पाए गए थे. लगता है कि सुनंदा पुष्कर और उनके पति शशि थरूर के बीच झगड़े की वजह से ही उनके शरीर पर यह निशान पड़े थे, जैसा कि उनके निजी सहायक नारायण सिंह ने पुलिस को दिए गए बयान में कहा था.’ इस रिपोर्ट को दक्षिण दिल्ली क्षेत्र के तत्कालीन पुलिस ज्वॉइंट कमिश्नर विवेक गोगिया को दिया गया था, जिन्हें इस केस को व्यक्तिगत तौर पर मॉनिटर करने के लिए कहा गया था. इस रिपोर्ट को बाद में गृह मंत्रालय को सौंप दिया गया था. जब यह बात जाहिर हुई कि यह खुदकुशी नहीं, बल्कि हत्या का मामला है तो भी पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज नहीं किया. और जब इस मामले को क्राइम ब्रांच को सौंपा गया तो एक हफ्ते के बाद ही इस बात पर फैसला लिया गया कि हत्या के लिए एक एफआईआर दर्ज की जाएगी और जांच शुरू किया जाएगा, ज्वॉइंट पुलिस कमिश्नर गोगिया ने चार घंटे के भीतर ही मैनेज करके इस केस को क्राइम ब्रांच से वापस ले लिया. क्राइम ब्रांच ने भी घटनास्थल, होटल लीला के उस कमरे का निरीक्षण किया था जहां सुनंदा पुष्कर की हत्या हुई थी. तत्कालीन दिल्ली पुलिस प्रमुख बीएस बस्सी के नेतृत्व में 1 साल की देरी से इस केस में एक एफआईआर दर्ज किया गया और करीब दो साल तक जांच चली.

दिल्ली पुलिस की सीक्रेट रिपोर्ट में सभी दस्तावेज थे, जिसमें पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, केमिकल, बायोलॉजिकल और फिंगर प्रिंट रिपोर्ट्स जो कि डीएनए अखबार के पास है, साफ तौर पर इस ओर इशारा करता है कि सुनंदा पुष्कर की हत्या हुई थी, लेकिन फिर भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं किया. रिपोर्ट के मुताबिक सुनंदा पुष्कर के हाथ पर दांत के काटने के निशान और साथ ही इंजेक्शन के निशान भी हैं, जिससे यह सवाल खड़ा होता है कि जहर मुंह के जरिए दिया गया या फिर इंजेक्शन से. यह जांच का विषय है. 17 जनवरी 2014 को करीब 9 बजे रात में पुलिस को इस बात की जानकारी मिली थी कि होटल लीला पैलेस के कमरा नंबर 345 में सुनंदा पुष्कर की मौत हो गई है. प्रारंभिक जांच में कहा गया कि 15 जनवरी 2017 को शाम 5.46 बजे वह इस होटल में आई थीं. पहले उन्हें कमरा नंबर 307 दिया गया था, लेकिन अगले दिन 16 जनवरी 2017 की दोपहर वह कमरा नंबर 345 में चली गईं.



loading...