अयोध्या पर फैसले से पहले CJI रंजन गोगोई ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और DGP के साथ की बैठक

शिवपाल यादव के तेवर पड़े नरम, अखिलेश यादव की तरफ बढ़ाया दोस्ती का हाथ, बोले- एक हो जाएं तो बना लेंगे सरकार

कैंट सीओ धमकी मामले में सीएम योगी ने मंत्री स्वाति सिंह को लगाई फटकर, DGP ने मांगी रिपोर्ट

नोएडा में नौकरी की तलाश में आई युवती से 6 लोगों ने किया गैंगरेप, 4 आरोपी गिरफ्तार

यूपी: मृतक के परिजनों से बदसलूकी करने वाले अमेठी के DM पर गिरी गाज, अरुण कुमार नए जिलाधिकारी

यूपी: होमगार्डों की फर्जी हाजिरी और वेतन निकासी में करोड़ों का घोटाला, आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी

अयोध्या फैसले के दिन यूपी में हत्या, लूट, अपहरण, डकैती की नहीं हुई कोई भी वारदात, अधिकारियों को भी नहीं हो रहा यकीन

2019-11-08_RanjanGogoi.jpg

सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने अयोध्या केस पर फ़ैसला सुनाने के मद्देनज़र क़ानून व्यवस्था की जानकारी के लिए उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी और चीफ़ सेक्रेटरी को आज सुप्रीम कोर्ट में बुलाया है. दरअसल अयोध्या मामले में कभी भी फैसला आ सकता है. इसी के मद्देनजर चीफ जस्टिस ने राज्य के चीफ सेक्रेटरी और डीजीपी की मीटिंग बुलाई. चीफ जस्टिस ने फैसले को लेकर सुरक्षा तैयारियां को सुनिश्चित करने के लिए ये मीटिंग बुलाई. 

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले केंद्र सरकार ने अयोध्या में चार हजार अतिरिक्त फोर्स भेजने का फ़ैसला किया है. गृह मंत्रालय ने यूपी समेत सभी राज्यों को अलर्ट रहने को कहा है. उत्तर प्रदेश में पैरामिलिट्री फोर्स 18 नवंबर तक तैनात रहेंगी. 12 संवेदनशील ज़िलों में RAF की 10 कंपनियां तैनात रहेंगी. अयोध्या में ड्रोन से सुरक्षा व्यवस्था की निगरानी की जा रही है. 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी सभी जिलों के डीएम और एसपी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की और कानून-व्यवस्था को लेकर निर्देश दिए. फैसले वाले दिन अयोध्या और लखनऊ में हेलीकॉप्टर तैनात किए जाएंगे. ये हेलीकॉप्टर स्टैंड बाय में रखे जाएंगे. यूपी सरकार किसी भी स्थिति से निपटने की तैयारी में है.

फैसला आने से पहले गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट जारी किया है. गृह मंत्रालय ने राज्यों को सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखने की अपील की है साथ ही अयोध्या में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 40 हज़ार अतिरिक्त जवानों को रवाना किया गया है. किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए अयोध्या में 10 अस्थायी जेल बनाई गई हैं. अस्थाई जेल बनाने के लिए अलग-अलग इलाकों में आठ विद्यालयों को चुना गया है.

अयोध्या विवाद पर फैसले और परिक्रमा को देखते हुए अयोध्या नगरी की सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद है. रेलवे और बस स्टेशनों पर यात्रियों की लगातार जांच पड़ताल की जा रही है. अयोध्या पर फैसला आने और आतंकी साजिश के चलते सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. होटलों और धर्मशालाओं में मौजूद लोगों के पते और पहचान की जांच की जा रही है. साथ ही नए सीसीटीवी कैमरें लगाने का आदेश भी दिया गया है.
 
अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले अयोध्या में आतंकी साजिश का खुलासा हुआ है. खुफिया एजेंसियों ने अयोध्या में आतंकी हमले की आशंका जताई है जिसे देखते हुए यूपी एटीएस को हाईअलर्ट पर रखा गया है. साथ ही भारत-नेपाल सीमा पर भी पेट्रोलिंग बढ़ा दी गई है.


 



loading...