क्रिस गेल ने जीता मसाज करने वाली महिला के सामने न्यूड होने वाला केस, हर्जाने में मिलेंगे 2 करोड़

2018-12-03_ChrisGayle.jpg

क्रिकेट फील्ड पर क्रिस गेल जितना अपने विस्फोटक मिजाज के लिए पॉपुलर हैं उतने ही मशहूर वो क्रिकेट के मैदान से बाहर विवादों में घिरे रहने के लिए भी हैं. लेकिन, ऐसा नहीं कि हर बार उनको लेकर खड़ा हुआ विवाद सही ही हो. क्योंकि, अगर ऐसा होता तो क्रिस गेल फेयरफैक्स मीडिया के लगाए आरोपों के खिलाफ मुकदमा जीतने में कामयाब नहीं होते. इतना ही नहीं गेल को इसके बदले करोड़ों का हर्जाना भी मिला. कोर्ट में मुकदमा जीतने के बाद गेल ने भी खुशी जाहिर की है.

फेयरफैक्स मीडिया ने क्रिस गेल पर 2015 वर्ल्ड कप के दौरान मसाज करने वाली महिला के सामने न्यूड होने का आरोप लगाया था. सिडनी मार्निंग हेराल्ड और द ऐज का प्रकाशन करने वाली फेयरफैक्स मीडिया का कहना है कि गेल ने 2015 वर्ल्ड कप के दौरान सिडनी के ड्रेसिंग रूम में मसाज करने वाली महिला के साथ अश्लील व्यवहार किया था. ये आरोप इस ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ग्रुप ने साल 2016 में छपे अपने तमाम आर्टिकल में लगाए थे. ये आर्टिकल तब छापे गए थे जब बिग बैश लीग के दौरान गेल ने इंटरव्यू ले रही एक महिला रिपोर्टर मेल मैक्लॉग्लीन को ड्रिंक के लिए आमंत्रित करते हुए कहा था ‘शर्माओ मत बेबी’.

बहरहाल, गेल ने सीधे तौर पर फेयरफैक्स मीडिया की ओर से लगाए आरोपों को न सिर्फ नकारा बल्कि न्यू साउथ वेल्स की कोर्ट में इसे चुनौती भी दी. गेल के मुताबिक, ऑस्ट्रेलियाई मीडिया समूह ने उन्हें बदनाम और बर्बाद करने के लिए ये सब किया था. ” न्यू साउथ वेल्स सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस लूसी मैकुलम ने भी गेल पर लगे आरोपों को बेबुनियाद पाया क्योंकि दावा करने वाला मीडिया समूह इसे लेकर कोई भी ठोस सबूत पेश कर पाने में नाकाम रहा. न्यू साउथ वेल्स सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए फेयरफैक्स मीडिया कंपनी को 2 करोड़ 10 लाख रूपये से भी ज्यादा का हर्जाना देने का निर्देश दिया है.



loading...