अरुणाचल में 1 KM अंदर तक घुसे चीनी सैनिक, भारतीय सेना ने खदेड़ा तो सामान छोड़ वापस लौटे

अलकायदा, आईएस के नए संगठनों पर मोदी सरकार ने लगाया प्रतिबंध

नौकरी के नाम पर UP के युवाओं से घाटी में पत्थरबाजी के लिए बनाया दबाव, जान बचाकर लौटे युवक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवसः पीएम मोदी ने देहरादून में 55 हजार लोगों के साथ किया योगासन, बोले- योग की वजह से भारत से जुड़ी दुनिया

पीएम मोदी ने नमो ऐप पर किसानों को संबोधित किया, कहा- 2022 तक दोगुनी आय करना हमारी सरकार का लक्ष्य

भारत ने कहा- पाकिस्तान से बातचीत को लेकर तीसरे पक्ष का दखल मंजूर नहीं, चीनी राजदूत ने दिया था प्रस्ताव

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती ने दिया इस्तीफा, राज्यपाल से मिले उमर अब्दुल्ला, कहा- न समर्थन लेंगे और न ही देंगे, जल्द चुनाव हों

2018-01-04_china5.jpg

डोकलाम विवाद अभी शांति ही हुआ था कि चीन ने अपना रंग दिखा दिया. उसने एक बार फिर से भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ करने की हिमाकत की है. चीन का सड़क निर्माण दल भारत के अरुणाचल प्रदेश के तूतिंग क्षेत्र में करीब एक किलोमीटर अंदर तक आ गया. हालांकि जब भारतीय सैनिकों ने खदेड़ा, तो यह चीनी दल अपने उपकरण छोड़कर भाग गया. यह घटना 28 दिसंबर की है.

बुधवार को सरकारी सूत्रों ने बताया कि यह चीनी असैन्य दल मार्ग गतिविधियों के लिए आया था, लेकिन भारतीय सैनिकों के कड़े विरोध के बाद वापस लौट गया. चीनी दल अपने साथ खुदाई करने वाले उपकरण सहित सड़क बनाने में काम आने वाले कई उपकरण भी लेकर आया था, जिसको वो वापस लौटते समय छोड़ गया. भारतीय सुरक्षा बलों ने चीनी दल के सड़क बनाने के उपकरणों को भी जब्त कर लिया है.

सूत्रों ने बताया कि 28 दिसंबर को तूतिंग क्षेत्र में भारतीय सीमा प्रहरियों ने भारतीय क्षेत्र में 1 किलोमीटर अंदर चीनी दल को सड़क बनाने से जुड़ा काम करते देखा.

सूत्रों ने बताया कि दोनों पक्षों के बीच कोई टकराव नहीं हुआ और इस मुद्दे को स्थापित प्रणाली के माध्यम से सुलझाया जा रहा है. सूत्रों के अनुसार सड़क बनाने में काम आने वाले उपकरण वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार भारतीय क्षेत्र में पड़े हैं. भारतीय जवानों ने उनके उपकरण भी जब्त कर लिए.

सीमा के समीप के जीडो गांव के न्योमिन और गेलिंग गांव के पेमा न्यिसिर ने बताया कि खुदाई करने वाली 2 मशीनें जब्त कर ली गई हैं. उन्होंने कहा कि गेलिंग में सियांग नदी के दाएं तट से सड़क निर्माण की गतिविधियां नजर आती हैं. उस जगह से गेलिंग की हवाई दूरी करीब सात आठ किलोमीटर है.

ग्रामीणों ने बताया कि भारतीय और चीनी सैनिकों ने काटी गई मिट्टी के पास शिविर लगा दिए और पत्थरों से एक दीवार खड़ी कर दी. दरअसल, ग्रामीणों ने चीन की गतिविधियों के बारे में पुलिस को सूचनी दी, जिसने बिशिंग के समीप मेडोग में तैनात आईटीबीपी को इसकी खबर दी. दोनों पक्षों में कहासुनी हुई, लेकिन चीनी दल ने मानने से इनकार कर दिया. तब भारतीय सेना को वहां भेजा गया, जो अबतक वहां तैनात हैं.

मामले में चीन ने कहा कि उसने अरुणाचल प्रदेश के वजूद को कभी माना ही नहीं है. साथ ही भारतीय सीमा क्षेत्र में घुसपैठ की घटना पर चुप्पी साध ली. इससे जुड़े सवाल पर चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कहा कि उनको इस बाबत कोई जानकारी नहीं है. चीन का दावा है कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिण तिब्बत का हिस्सा है. वास्तविक नियंत्रण रेखा के 3,488 किमी लंबे हिस्से को लेकर भारत चीन सीमा विवाद है. हाल ही में डोकलाम इलाके में भारत-चीन सीमा पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच 72 दिनों तक गतिरोध चला था. 



loading...