डोकलाम विवाद: तिब्बत में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रॉकेट लांचर तैनात करेगा चीन

अमेरिका ने दूसरे देशों के छात्रों के लिए पॉलिसी सख्त की, नियम तोड़ने के अगले दिन से गैरकानूनी माना जाएगा प्रवास

वॉशिंगटन के इंटरनेशनल एयरपोर्ट से अलास्का एयरलाइंस के कर्मचारी ने प्लेन चुरा लिया, आईलैंड पर क्रैश हुआ

इंडोनेशिया: एशियाई खेलों के दौरान ट्रैफिक की समस्या से निपटने के लिए 15 दिन बंद रहेंगे जकार्ता के 70 स्कूल

अमेरिका में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास की हत्या के जुर्म में पूर्व नौसैनिक को 60 साल की सजा

अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकी हमले में चार महिलाओं समेत 12 लोगों की मौत, मुठभेड़ जारी

पीएम की शपथ लेने से पहले करप्शन के आरोप पर जवाब देंगे इमरान खान

2018-08-04_ChinaTaibat.jpg

चीन स्वतंत्र तिब्बतीय क्षेत्र में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक कैटापुल्ट (प्रक्षेपक) तकनीक से लैस रॉकेट तैनात करने की योजना बना रहा है. चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस तकनीक के जरिए ये रॉकेट ऊंचाई वाले इलाकों में 200 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम होंगे. रिपोर्ट में सीधे तौर पर भारत और डोकलाम का जिक्र नहीं किया गया. लेकिन, ये कहा गया कि इन रॉकेट का इस्तेमाल चीन की दक्षिण-पश्चिम सीमा पर हुए सैन्य विवाद के दौरान भी किया जा सकता था. 

रिपोर्ट में कहा गया- पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के अंतर्गत रिसर्चर हान जुनली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रॉकेट आर्टिलरी को विकसित करने पर काम कर रहे हैं. हान इंजीनियरिंग एकेडमी के मा वेमिंग से प्रेरित हैं, जिन्हें चीन में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक कैटापुल्ट तकनीक का जनक माना जाता है. हान ने ग्लोबल टाइम्स से कहा, चीन के पास लंबे पहाड़ी और पठार क्षेत्र हैं, जहां इस तरह के रॉकेट पहुंचाए जा सकते हैं. इसके जरिए चीन सैकड़ों किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुश्मनों को भी आसानी से अपने इलाके से निकाल सकता है. आने वाले समय में यही तकनीक वे जंगी जहाजों में भी इस्तेमाल की जाएगी.

73 दिनों तक चले डोकलाम विवाद को भारत और चीन ने कूटनीतिक बातचीत के जरिए सुलझाया था. पीएलए ने जब डोकलाम में सड़क निर्माण शुरू किया, तब विवाद की शुरुआत हुई थी. भारत और चीन के सैनिक आमने-सामने थे. चीन के मीडिया ने कहा कि डोकलाम की भौगोलिक स्थिति का फायदा भारत को मिला, क्योंकि यहां भारत ऊंचाई पर स्थित है. ऐसे में चीन को कदम वापस खींचने पड़े.



loading...