मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में चीन ने भारत से फिर मांगे सबूत

जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए चीन को मनाने में लगे अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस

पुलवामा हमले के आरोपी मसूद अजहर पर फ्रांस का बड़ा कदम, जब्त होंगी सभी संपत्तियां

न्‍यूजीलैंड के क्राइस्‍टचर्च में दो मस्जिदों में अंधाधुंध फायरिंग, कई की मौत, बाल-बाल बची बांग्लादेश क्रिकेट टीम

पाकिस्तान में भी उठने लगी आतंकवाद के खिलाफ आवाज, बेनजीर के बेटे ने इमरान सरकार पर लगाया गंभीर आरोप

जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने में चीन ने फिर लगाया अडंगा, UNSC में बैन के प्रस्ताव पर लगाया वीटो

UNHRC में PoK के नेताओं-कार्यकर्ताओं ने खोली पाकिस्तान की पोल, कहा- हमले कराने के लिए कश्‍मीरियों को उकसाती है पाक सेना

2019-03-13_MasoodChina.jpg

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मौलाना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने के कुछ घंटे पहले ही चीन ने संकेत दिया कि वह एक बार फिर इस कदम को रोक सकता है. आज ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक में अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन इस प्रस्ताव को लाने वाले हैं.

चीन ने कहा कि समाधान ऐसा होना चाहिए जो सभी पक्षों को स्वीकार्य हो और समस्या को हल करने वाला हो. आपको बता दें आज संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए प्रस्ताव लाया जाएगा. जिसके बाद इस विषय पर अन्य देशों की आपत्तियां मंगाई जाएंगी.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की 1267 अलकायदा प्रतिबंध समिति के तहत अजहर को नामित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका द्वारा प्रस्तुत किया गया था.

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने यहां एक मीडिया ब्रीफिंग में बताया, ‘मैं यह दोहराता हूं कि चीन जिम्मेदाराना रवैया अपनाना जारी रखेगा और यूएनएससी की 1267 समिति के विचार-विमर्श में हिस्सा लेगा.'

चीन संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वीटो की शक्ति रखनेवाला सदस्य है और सबकी निगाहें चीन पर हैं जो पूर्व में अजहर को संयुक्त राष्ट्र से वैश्विक आतंकवादी घोषित कराने के भारत के प्रयासों में अड़ंगा डाल चुका है. चीन इस बात पर जोर दे रहा है कि समाधान सभी को स्वीकार्य होना चाहिए.



loading...