सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत का बड़ा बयान, उत्तराखंड में लागू हो सकता है एनआरसी

केदारनाथ में टेक ऑफ करते वक्त हेलीकॉप्टर क्रैश, पायलट और 6 यात्री थे सवार

उत्तराखंड में भारी बारिश से तबाही, बादल फटने से 2 लोगों की मौत, कई मकान क्षतिग्रस्त

सीने में दर्द के चलते एम्स में भर्ती आचार्य बालकृष्ण की हालत में सुधार, दोपहर तक किए जा सकते हैं डिस्चार्ज

बीजेपी ने पिस्टल लहराने वाले विधायक प्रणव सिंह चैंपियन को 6 सालों के लिए पार्टी से निष्कासित किया

‘तमंचे पर डिस्को’ करने वाले निलंबित विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन को बीजेपी ने दिखाया बाहर का रास्ता

बीजेपी के निलंबित विधायक का ‘तमंचे पर डिस्को’ विडियो हुआ वायरल, भाजपा ने कठोर कार्रवाई का दिया आदेश

2019-09-16_TrivendraSinghRawat.jpg

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि राज्य में भी एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन) लागू होगा. आपको बता दें कि उत्तराखंड सामरिक रूप से बेहद महत्वपूर्ण राज्य है. क्योंकि इसकी सीमाएं चीन और नेपाल से मिलती हैं.

आज देहरादून में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमान्त प्रदेश होने के कारण उत्तराखंड में भी एनआरसी लागू किया जा सकता है. इस संबंध में वह मंत्रिमंडल से विचार विमर्श करेंगे. उन्होंने कहा कि अगर आवश्यकता पड़ी तो उत्तराखंड में भी एनआरसी लागू किया जाएगा.

एनआरसी का उद्देश्य देश के वास्तविक नागरिकों को दर्ज करना और अवैध प्रवासियों की शिनाख्त करना है. असम में ऐसा पहली बार साल 1951 में पंडित नेहरू की सरकार द्वारा असम के तत्कालीन मुख्यमंत्री गोपीनाथ बारदोलोई को शांत करने के लिए किया गया था. बारदोलाई विभाजन के बाद बड़ी संख्या में पूर्वी पाकिस्तान से भागकर आए बंगाली हिंदू शरणार्थियों को असम में बसाए जाने के खिलाफ थे. 

साल 1980 के दशक में वहां के कट्टर क्षेत्रीय समूहों द्वारा एनआरसी को अपडेट करने की लगातार मांग की जाती रही थी. असम आंदोलन को समाप्त करने के लिए राजीव गांधी सरकार ने 1985 में एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे, जिसमें 1971 के बाद आने वाले लोगों को एनआरसी में शामिल न करने पर सहमति व्यक्त की गई थी. 

अवैध प्रवासियों को हटाने के लिए राज्य की कांग्रेस सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के रूप में साल 2010 में एनआरसी को अपडेट करने की शुरुआत असम के दो जिलों- बारपेटा और कामरूप से की। लेकिन, बारपेटा में हिंसक झड़प के बाद यह प्रक्रिया ठप हो गई। हालांकि, एनआरसी का काम एक स्वयंसेवी संगठन असम पब्लिक वर्क्स द्वारा एक याचिका दायर करने के बाद सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप से ही फिर से शुरू हो सका। वर्ष 2015 में असम सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में एनआरसी का काम फिर से शुरू किया.


 



loading...