ताज़ा खबर

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश का आज आखिरी कार्यदिवस, 17 नवंबर को रिटायर हो जायेंगे रंजन गोगोई

निर्भया केस: दोषी विनय शर्मा ने राष्ट्रपति को भेजी अर्जी, ‘मेरी दया याचिका वापस कर दें’

उन्नाव केस का विरोध कर रही महिला ने अपनी ही बेटी पर फेंका पेट्रोल, हालत गंभीर

निर्भया केस: गृह मंत्रालय ने दोषियों की दया याचिका खारिज करने की राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से की सिफारिश

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बड़ा बयान, कहा- पॉक्सो एक्ट के तहत रेप के दोषियों के लिए दया याचिका नहीं होनी चाहिए

पीएम मोदी ने कहा- अनुच्छेद 370 हटाने से जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास की नई उम्मीद मिली है

हैदराबाद रेप-मर्डर केस के आरोपियों का एनकाउंटर, निर्भया की मां ने कहा- मैं बहुत खुश हूं, पुलिस ने बेहतरीन काम किया

2019-11-15_RanjanGogoi.jpeg

देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो जाएंगे. आज 15 नवंबर को उनका अंतिम कार्यदिवस है. आज कोर्ट में सीजेआई रंजन गोगोई देश के भावी सीजेआई एसए बोबड़े के साथ कोर्ट नंबर 1 में बैठे. शुक्रवार को सीजेआई ने कार्यसूची में दर्ज सभी 10 मामलों में नोटिस जारी किया. 17 नवंबर 2019 को रिटायर होने से पहले मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अयोध्‍या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद और राफेल घोटाला जैसे बड़े मामलों में फैसला दे चुके हैं. 

शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में बतौर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई परंपरा के मुताबिक अगले CJI शरद अरविंद बोबड़े के साथ बैठे. उनकी कोर्ट की कार्यवाही करीब 3 मिनट ही चली. इस दौरान CJI रंजन गोगोई ने अपने सामने सूचीबद्ध सभी 10 मामलों पर नोटिस किया. सुनवाई के दौरान कई वकीलों ने अपनी दलीलों के अलावा उनकी जमकर तारीफ भी की. अपने सम्‍मान में यह बातें सुनकर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई मुस्‍कुराए और उन्‍होंने वकीलों को धन्‍यवाद कहा.

आपको बता दें कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने अपने कार्यकाल में कई ऐतिहासिक फैसले दिए, जिनमें प्रमुख फैसले अयोध्या विवाद, सबरीमाला केस, राफेल केस, राहुल गांधी के चौकीदार चोर है वाले बयान, वित्त विधेयक और सीजेआई दफ्तर आरटीआई के दायरे में... शामिल हैं.
 



loading...