छत्तीसगढ़ में कांग्रेस किसे बनाएगी मुख्यमंत्री, आज रात 8 बजे होगा फैसला

छत्तीसगढ़ के सुकमा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 1 नक्सली को मार गिराया, इंसास राइफल बरामद

छत्तीसगढ़ के धमतरी में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 4 नक्सलियों को मार गिराया, बड़ी मात्रा में हथियार बरामद

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में CRPF के 3 जवान शहीद, एक महिला की मौत

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों ने समाजवादी नेता को अगवा कर मौत के घाट उतारा, सड़क किनारे मिली लाश

छत्तीसगढ़: कांकेर में सेना ने मुठभेड़ में 2 नक्सलियों को किया ढेर, भारी मात्रा में गोल-बारूद बरामद

छत्तीसगढ़ में बिजली कटौती की अफवाह फैलाने के आरोप में राजद्रोह का केस, 1 गिरफ्तार

2018-12-12_ChhattisgarhCongress.jpg

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली जोरदार सफलता के बाद मुख्यमंत्री के चयन के लिए कांग्रेस के निर्वाचित विधायकों की बैठक बुधवार रात आठ बजे होनी है. इस बैठक के बाद राज्य के अगले मुख्यमंत्री के नाम का एलान होना लगभग तय माना जा रहा है.

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी ने बुधवार को रायपुर में बताया कि कांग्रेस विधायक दल की आज रात आठ बजे पहली बैठक होगी. 

त्रिवेदी ने बताया कि कांग्रेस विधायक दल की इस महत्वपूर्ण बैठक में नवनिर्वाचित विधायकों के साथ अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पर्यवेक्षक मल्लिकार्जुन खड़गे, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, प्रभारी सचिव चंदन यादव और अरुण उरांव मौजूद रहेंगे. 

उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पर्यवेक्षक मलिकार्जुन खड़गे बुधवार की शाम दिल्ली से रायपुर पहुंचेंगे. ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक के बाद ही राज्य में नए मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा की जाएगी.

राज्य में कांग्रेस को 15 वर्षों के बाद बड़ी जीत दिलाने में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल की भूमिका को महत्वपूर्ण माना जा रहा है. सिंहदेव और बघेल मुख्यमंत्री पद के प्रबल दावेदार हैं. सिंहेदव ने अंबिकापुर से और बघेल ने पाटन से जीत हासिल की है. 

राज्य में अन्य पिछड़ा वर्ग के प्रमुख नेता और दुर्ग लोकसभा सीट से सांसद ताम्रध्वज साहू भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में से एक हैं. साहू दुर्ग ग्रामीण विधानसभा सीट से चुनाव लड़कर विजयी हुए हैं. साहू की साफ सुथरी छवि और अन्य पिछड़ा वर्ग में मजबूत पकड़ होने के कारण उन्हें भी मुख्यमंत्री पद का दावेदार माना जा रहा है. 

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चरणदास महंत भी मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में से एक हैं. महंत पूर्व केंद्रीय मंत्री हैं और अविभाजित मध्यप्रदेश में भी मंत्री रहे हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के करीबी होने के कारण उन्हें भी मुख्यमंत्री पद का दावेदार माना जा रहा है.

छत्तीसगढ़ में पिछले 15 वर्षो से सत्ता में काबिज भारतीय जनता पार्टी को हराकर कांग्रेस ने बड़ी जीत हासिल की है. राज्य में वर्ष 2003 से लगातार रमन सिंह के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी. हार की जिम्मेदारी लेते हुए सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.



loading...