छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव परिणाम: कांग्रेस को पूर्ण बहुमत, मुख्यमंत्री की रेस में ये 4 चेहरे

छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 7 नक्सलियों को मार गिराया, बड़ी मात्रा में हथियार भी बरामद

छत्तीसगढ़ के सुकमा में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 1 नक्सली को मार गिराया, इंसास राइफल बरामद

छत्तीसगढ़ के धमतरी में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 4 नक्सलियों को मार गिराया, बड़ी मात्रा में हथियार बरामद

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में CRPF के 3 जवान शहीद, एक महिला की मौत

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में नक्सलियों ने समाजवादी नेता को अगवा कर मौत के घाट उतारा, सड़क किनारे मिली लाश

छत्तीसगढ़: कांकेर में सेना ने मुठभेड़ में 2 नक्सलियों को किया ढेर, भारी मात्रा में गोल-बारूद बरामद

2018-12-11_BhupeshBaghel.jpg

छत्तीसगढ़ में जहां एग्जिट पोल सीएम रमन सिंह की वापसी निर्णायक तरीके से दिखा रहे थे, और वो वहां कांग्रेस ने सबसे धमाकेदार तरीके से वापसी की है. रमन सिंह का चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का सपना टूट गया. लेकिन अब सवाल ये उठता है कि कांग्रेस की ओर से सीएम की कुर्सी पर कौन बैठेगा. दावेदार तो कई हैं लेकिन कुछ चेहरे एकदम से सामने आ जाते हैं.

भूपेश बघेल मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष हैं. अब जब जीत दमदार है तो कार्यकर्ताओं और नेताओं में दम फूंकने का काम करने वाले को इनाम का इंतजार भी होगा. ये भी याद रखना होगा कि सीडी कांड में जेल जाने के बावजूद वो लड़ते रहे, भाजपा पर हमलावर बने रहे. बघेल को ओबीसी का बड़ा नेता माना जाता है. छत्तीसगढ़ में ओबीसी की आबादी करीब 36 फीसदी है. वो अविभाजित मध्यप्रदेश में दिग्विजय सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं.

अंबिकापुर सीट से मैदान में उतरे कांग्रेस के बड़े नेता टीएस सिंहदेव भी सीएम की कुर्सी के दावेदार बताए जा रहे हैं. 2013 से वो नेता विपक्ष की भूमिका निभा रहे हैं. इस बार वो घोषणापत्र समिति के अध्यक्ष थे. अध्यक्ष रहते जिस तरह वो समाज के तमाम लोगों तक पहुंचे और उनकी रायशुमारी कर घोषणापत्र तैयार किया, उसकी काफी तारीफ हुई. वो राहुल गांधी के करीबी भी माने जाते हैं.

ताम्रध्वज साहू की ओबीसी विंग के अध्य़क्ष होने के नाते वर्ग विशेष में उनकी खासी पहुंच है. मोदी लहर के बीच 2014 में वो छत्तीसगढ़ से कांग्रेस के अकेले चेहरे थे जो चुनाव जीतने में कामयाब रहे. इस बार टिकट बंटवारे के बाद, असंतोष और नाराजगी को थामने में उन्होंने बड़ी भूमिका निभाई.

डॉ. चरणदास महंत, सक्ती विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं. वो मध्यप्रदेश सरकार में गृहमंत्री और यूपीए-2 में राज्य मंत्री रह चुके हैं. पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने भी उन्हें मुख्यमंत्री पद का दावेदार करार दिया था.
 



loading...