IPL 2018: हैदराबाद को हराकर तीसरी बार चैम्पियन बनी चेन्नई, मुंबई के इस रिकॉर्ड की बराबरी

2018-05-28_chennai.jpg

महेंद्र सिंह धोनी की टीम चेन्नई सुपरकिंग ने सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर तीसरी बार आईपीएल चैम्पियन बन गई है. कल रविवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए आईपीएल 11 के फाइनल में मुक़ाबले में चेन्नई ने हैदराबाद को 8 विकेट से हराकर आईपीएल का खिताब अपने नाम कर लिया है. चेन्नई इस जीत के साथ 3 बार की आईपीएल चैम्पियन बन गई है. चेन्नई से पहले मुंबई 3 बार आईपीएल का खिताब अपने नाम कर चुकी है. फाइनल मुक़ाबले में सनराइजर्स हैदराबाद ने चेन्नई को 179 रन का टारगेट दिया था. इसे चेन्नई ने 18.3 ओवर में ही हासिल कर लिया. जीत के हीरो शेन वॉटसन नाबाद 117 बनाए और इस आईपीएल में उन्होंने अपनी दूसरा शतक लगाया. वे फाइनल में रनों का पीछा करते हुए शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज बने. चेन्नई इस आईपीएल की सबसे उम्रदराज टीम थी। उसके खिलाड़ियों की औसत उम्र 34 साल है, जबकि बाकी टीमों के खिलाड़ियों की औसत उम्र 26 से 28 के बीच है. चेन्नई की टीम के 11 में से 9 खिलाड़ी अपने देश की टी-20 टीम में भी नहीं हैं. 

चेन्नई के पहले टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला किया. हैदराबाद की तरफ से धवन और गोस्वामी ओपनिंग के लिए आए लेकिन जल्द ही गोस्वामी रन आउट हो गए जिसके बाद केन विलियम्सन ने तूफानी पारी खेली जिसमें उन्होंने ३६ गेंदों में 47 रन बनाये. धवन ने 25 गेंदों का सामना करते हुए 26 रन बनाए. यूसुफ पठान ने के नॉटआउट 44 रनों की बदौलत हैदराबाद ने 20 ओवरों में 178 रन बनाए. चेन्नई की ओर से गेंदबाजी करते हुए दीपक चाहर ने 4 ओवर में 25 रन दिए. हालांकि उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला. जबकि लुंगी ने 4 ओवर में 26 रन देकर एक विकेट हासिल किया. इसके अलावा उन्होंने एक मेडन ओवर भी डाला. ड्वेन ब्रावो ने 4 ओवर में 46 रन देकर एक विकेट हासिल किया. रविन्द्र जडेजा ने 2 ओवर में 24 रन देकर एक विकेट लिया. कर्ण शर्मा ने 3 ओवर में 25 रन देकर एक विकेट लिया. शार्दुल ठाकुर ने 3 ओवर में 31 रन देकर 1 विकेट लिया. 

इस मुकाबले में हैदराबाद के दिए लक्ष्य का पीछा करने के लिए चेन्नई की ओर से शेन वॉटसन और फाफ डू प्लेसिस ओपनिंग करने आए. इस दौरान प्लेसिस 11 गेंदों का सामना करते हुए 10 रन बनाकर संदीप शर्मा की गेंद पर आउट हो गए. वहीं इसके ठीक बाद सुरेश रैना 24 गेंदों का सामना करते हुए 32 रन बनाये . इस मुकाबले में चेन्नई की शुरुआत अच्छी नहीं रही. लेकिन वॉटसन की तूफानी पारी ने सब आसान कर दिया. वॉटसन ने 57 गेंदों का सामना करते हुए 8 छक्कों और 11 चौकों की मदद से नाबाद 117 रन बनाए. अंबाती रायडू ने 16 रन बनाकर नाबाद रहे.

चेन्नई की टीम में सबसे ज्यादा उम्रदराज खिलाड़ी थे. लेकिन फिर भी चेन्नई ने आईपीएल का खिताब अपने नाम किया. ट्रॉफी लेने के बाद चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा, "बहुत सारे लोग आंकड़ों, नंबर के बारे में बातें कर रहे थे इसलिए आज 27 तारीख है और मेरी जर्सी का नंबर 7 है और ये हमारा सातवां फाइनल भी है. हम उम्र के बारे में बहुत बात करते हैं, लेकिन इससे ज्यादा महत्वपूर्ण फिटनेस है. ये उम्र से ज्यादा मायने रखती है. आप अगर कप्तानों से बात करेंगे तो वे ऐसे खिलाड़ी चाहते हैं जो मैदान में ज्यादा तेजी से मूव कर सकें. ये मायने नहीं रखता कि आप की उम्र 19-20 साल ज्यादा है. हम लोग अपनी कमजोरियां जानते हैं. अगर वॉटसन डाइव मारता है तो उसे खिंचाव की समस्या आ सकती है और ऐसे में हम ये नहीं चाहते कि वे डाइव मारें. हम इन बातों को लेकर जागरुक हैं. उम्र केवल नंबर वन है.



loading...