Chaitra Navratri 2019: आज है नवरात्रि का पहला दिन, जानें कलश स्थापना और मां शैलपुत्री की पूजा का शुभ मुहूर्त

2019-04-06_navratri-2019.jpg

आज से चैत्र नवरात्रि का पर्व शुरू हो रहा है. नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा होती है. पहले दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप ‘शैलपुत्री’ की पूजा होती है. पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम 'शैलपुत्री' पड़ा. नवरात्र-पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है.

मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की लाइन लग गई है. भक्तों ने मंदिरों में पूजा-अर्चना कर माता से मन्नतें मांगी हैं. आज से शुरू नवरात्रि 14 अप्रैल तक चलेंगे. इस नवरात्रि के साथ ही हिंदू नववर्ष भी मनाया जाता है. साल में सबसे पहले आने वाले इस नवरात्रि के साथ-साथ हिंदू नव वर्ष भी मनाया जाता है. साल में दो बार नवरात्र‍ि का पर्व आता हैं, जिन्‍हें चैत्र नवरात्र और शारदीय नवरात्र के नाम से जाना जाता है. 

कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त-

6 अप्रैल की सुबह 06:19 से 10:26 बजे तक

चैत्र नवरात्रि की तिथियां के साथ जानिए माता के रूपों के नाम:-
6 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का पहला दिन - शैलपुत्री का पूजन
7 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का दूसरा दिन - बह्मचारिणी पूजन
8 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का तीसरा दिन - चंद्रघंटा का पूजन
9 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का चौथा दिन - कुष्‍मांडा का पूजन
10 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का पांचवां दिन - स्‍कंदमाता का पूजन
11 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का छठा दिन - सरस्‍वती का पूजन
12 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का सातवां दिन - कात्‍यायनी का पूजन
13 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का आठवां दिन - कालरात्रि का पूजन (कन्‍या पूजन)
14 अप्रैल 2019 : नवरात्रि का नौवां दिन - महागौरी का पूजन (कन्‍या पूजन, नवमी हवन और नवरात्रि पारण)

पूजन विधि-
सबसे पहले चौकी पर माता शैलपुत्री की प्रतिमा स्थापित करें. इसके बाद गंगा जल से शुद्धिकरण करें. माता की चौकी स्थापित करें और उसी चौकी पर माता की प्रतिमा स्थापित करें. इसके बाद व्रत, पूजन का संकल्प लें और वैदिक एवं सप्तशती मंत्रों द्वारा मां शैलपुत्री सहित समस्त स्थापित देवताओं की पूजा करें. माता का आह्वान करें और माता को वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, रोली, हल्दी, सिंदूर, दुर्वा, बिल्वपत्र, आभूषण, पुष्प-हार, सुगंधित द्रव्य, धूप-दीप, फल, पान, अर्पित करें. इसके बाद आरती कर पूजन संपन्न करें.



loading...