CBI vs Mamata: विरोध प्रदर्शनों में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिरी गाज, वापस लिए जायेंगे मेडल

ट्रेड यूनियन के कर्मचारियों की हड़ताल का आज दूसरा दिन, पश्चिम बंगाल में हिंसा के चलते बस ड्राइवरों ने लगाया हेलमेट

सुप्रीम कोर्ट से बीजेपी को बड़ा झटका, पश्चिम बंगाल रथ यात्रा मामले में तुरंत सुनवाई से इनकार

कोयला घोटाला मामले में पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता समेत 6 दोषी करार, 3 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

पश्चिम बंगाल, बिहार, असम में भूकंप, रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 5.5 मापी गई, घरों-ऑफिस से बाहर निकले लोग

पीएम मोदी की रैली में पंडाल गिरने से 24 जख्मी, घायलों को देखने अस्पताल पहुंचे मोदी

विश्व भारती विश्वविद्यालय: कोलकाता में दीक्षांत समारोह में पहुंचे PM मोदी और CM ममता

2019-02-08_IPSOfficers.jpg

केंद्र सरकार उन अधिकारियों पर शिकंजा कसने जा रही है जो सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों में शामिल होते हैं. यह फैसला 4 फरवरी को कोलकाता में ममता बनर्जी के धरने में भाग लेने वाले अधिकारियों के संबंध में लिया गया है. एमएचए की रिपोर्ट के मुताबिक केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल सरकार को अखिल भारतीय सेवा आचरण नियमों के अनुसार कार्रवाई करने के लिए कहा गया है.

जानकारी के मुताबिक पश्चिम बंगाल में पांच आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है. इनमें 1985 बैच के डीजीपी (पश्चिमी बंगाल) विरेंद्र, 1994 बैच के एडीजी विनीत कुमार, 1991 बैच के एडीजी कानून व्यवस्था अनुज शर्मा, 1993 बैच के विधाननगर कमिश्नरेट ज्ञानपंत सिंह और 1997 बैच के एडिशनल सीपी कोलकाता सुप्रतिम सरकार शामिल हैं.    

इसके अलावा लापरवाही करने वाले अधिकारियों के खिलाफ भी केंद्र सरकार सख्त हो गई है. इन अधिकारियों से मेडल भी छीने जा सकते हैं. ऐसे अधिकारियों पर केंद्र सरकार सेवा देने से भी रोक लगा सकती है. इस मामलों में केंद्र सरकार राज्य सरकारों को एक नोटिस जारी करने पर विचार भी कर रही है.



loading...