हरियाणा के रेवाड़ी में राष्ट्रपति से सम्मानित छात्रा को अगवा करके 12 लड़कों ने किया दुष्कर्म, न्याय के लिए भटक रहा परिवार

HCS पेपर लीक मामले में चीफ जस्टिस कृष्ण मुरारी ने पूछा- बिना पढ़े-लिखे 43 वर्ष की हाउसवाइफ टॉपर कैसे बन गई?

रेवाड़ी गैंगरेप केस में पुलिस ने मुख्य आरोपी निशु फोगाट को किया गिरफ्तार, SP राजेश दुग्गल का तबादला

गुरुग्राम में तीन मंजिला इमारत में लाउडस्पीकर से अजान, नगर निगम ने मस्जिद को किया सील

हरियाणा के कुरुक्षेत्र से बीजेपी के सांसद राजकुमार सैनी ने अपनी नई पार्टी का किया ऐलान, 2 सितंबर को करेंगे रैली

हरियाणा के रोहतक में कोर्ट में गवाही पर आई लड़की और सब इंस्पेक्टर की गोली मारकर हत्या, पुलिस ने ऑनर किलिंग का शक जताया

राजस्थान के बाद अब हरियाणा में भीड़ हिंसा का कहर, भैंस चुराने के शक में 2 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला

2018-09-14_assaltedharyana.jpg

हरियाणा के रेवाड़ी जिले में राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित एक 19 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है. गुरुवार सुबह छात्रा अपने घर से कोचिंग के लिए निकली थी, तभी कनीना बस अड्डे के पास उसी गांव के रहने वाले तीन युवकों ने उसे लिफ्ट देने के बहाने किडनैप कर लिया. किडनैपिंग की वारदात को अंजाम देने के बाद 12 लड़कों ने छात्रा के साथ गैंगरेप किया.

जानकारी के मुताबिक, गाड़ी में लिफ्ट देने के बाद पंकज, मनीष और नीसु नाम के तीन युवकों ने छात्रा को नशीला पानी पिलाया और बेहोश किया. इसके बाद तीनों युवक छात्रा को अगवाकर महेन्द्रगढ़ जिले की सीमा से दूर झज्जर जिले की सीमा के खेतों में बने एक कुएं पर ले गए, जहां और भी लोग मौजूद थे और नशे की हालत में सभी ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया और वापस शाम करीब 4 बजे वही कनीना बस अड्डे पर बेसुध हालत में फेंककर वहां से रफू चक्कर हो गए.

छात्रा के साथ रेप की वारदात को अंजाम देने वाले युवकों में से ही एक युवक ने छात्रा के घर पर फोन करके इस बात की जानकारी दी कि उनकी लड़की बस अड्डे पर बेसुध हालात में पड़ी हुई है. फोन पर जानकारी मिलते ही बस अड्डे पहुंचे छात्रा के परिजनों ने जब उसको देखा तो वह हैरान रह गए और पुलिस को मामले की जानकारी दी.

छात्रा रेवाड़ी जिले की ही रहने वाली है, इसलिए उसके परिजनों ने इस मामले की जानकारी वही के थाने में दर्ज कराई. रेवाड़ी की महिला पुलिस ने जीरो FIR दर्ज़ कर उसे कनीना (महेंद्रगढ़) थाने भेज दिया. कनीना थाने से भी पीड़ित परिजनों को यह कहकर वापस लौटा दिया की यह मामला उनकी सीमा क्षेत्र से बाहर का है. पीड़ित परिवार का कहना है कि बेटी के लिए वह जगह-जगह न्याय की भीख मांग रहा है, लेकिन पुलिस और प्रशासन में इसकी सुनवाई करने वाला कोई नहीं है.

आपको बता दें कि 26 जनवरी 2016 को छात्रा को राष्ट्रपति ने पढ़ाई में अच्छे नंबर लाने के लिए सम्मानित किया था. इस मामले में परिजनों के बयान सामने आने के बाद पुलिस प्रशासन चुप्पी साधे हुए हैं.



loading...