CBSE Board Result: 10वीं में 86.7 फीसदी स्‍टूडेंट पास, चारों टॉपर्स के आए 500 में से 499 नंबर

2018-05-29_CBSE_10th_result_2018.jpg

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) मंगलवार को 10वीं क्लास का रिजल्ट घोषित कर दिया है। इस बात की जानकारी मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सचिव अनिल स्वरुप ने ट्वीट कर दी। स्टूडेंट्स अपना रिजल्ट बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट cbseresults.nic.in पर जाकर चेक कर सकते हैं। इस साल गुड़गांव के प्रखर मित्तल समेत चार छात्रों ने टॉप किया है। सभी को 500 में से 499 नंबर मिले हैं। बता दें कि 12वीं का रिजल्ट बोर्ड 26 मई को जारी कर चुका है। 

ऐसे चेक करें रिजल्ट-
CBSE बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर जाकर लॉगइन करें। इसके बाद होम पेज पर CBSE 10th Result 2018 वाले लिंक पर क्लिक करें। अपना रोल नंबर डालें। रिजल्ट को डाउनलोड करें और प्रिंट आउट निकाल लें।

इन चारों ने किया टॉप 

नाम                               स्कूल                                                       मार्क्स
प्रखर मित्तल            डीपीएस गुड़गांव                                          499/500
रिमझिम अग्रवाल    आरआर पब्लिक स्कूल, बिजनौर                   499/500
नंदिनी गर्ग               स्कॉटिश इंटरनेशन स्कूल, शामली                499/500
श्रीलक्ष्मी                   भवन विद्यालय, कोचीन                                499/500

इस साल लड़कियों ने फिर बाजी मारी है, जबकि पिछले साल लड़कियां लड़कों से पीछे थीं। इस साल लड़कियों का पासिंग परसेंटेज 88.67% रहा, जबकि 85.32% लड़के पास हुए हैं। इस साल लड़कों के मुकाबले लड़कियों का पासिंग परसेंटेज 3.35% बढ़ा है। वहीं पिछले साल 92.05% लड़कियां और 93.04% लड़के पास हुए थे। जबकि 2016 में लड़कियों का पासिंग परसेंटेज 96.36% और लड़कों का पासिंग परसेंजेट 96.11% रहा था। अगर पिछले 5 साल के आंकड़ों को देखा जाए तो ये पहली बार है जब लड़के-लड़कियों के पासिंग परसेंटेज में 3.35% का अंतर रहा। जबकि 2013 से 2017 तक पासिंग परसेंटेज में लगभग 1% का ही अंतर रहता था।इस साल ओवरऑल पासिंग परसेंटेज 86.70% रहा, जो पिछले साल से 4.25% कम है। ये लगातार तीसरा साल है, जब 10वीं क्लास का पासिंग परसेंटेज गिरा है।2017 में पासिंग परसेंटेज जहां 90.95% रहा था, वहीं 2016 में 96.21% स्टूडेंट्स पास हुए थे। जबकि 2015 में 98.64% स्टूडेंट्स पास हुए थे।

इस बार सीबीएसई 10वीं के छात्रों को अंग्रेजी के पेपर में 2 अंकों का मुआवजा मिला है। सीबीएसई ने 10वीं के अंग्रेजी के प्रश्नपत्र में टाइपिंग की गलतियों के लिए छात्रों को 2 अंकों की राहत दी है। ये फैसला सीबीएसई ने कुछ दिन पहले ही लिया था। 10वीं के छात्रों को पास होने के लिए प्रत्येक विषय में 33 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य होगा।



loading...