ताज़ा खबर

सीबीआई विवाद पर बोले पूर्व चीफ जस्टिस आरएम लोढ़ा, तोते को आजाद नहीं करेंगे तो वह खुले आसमान में कैसे उड़ेगा?

NSA अजित डोभाल के बेटे विवेक डोभाल की याचिका पर कोर्ट ने लिया संज्ञान, 30 जनवरी को होगी सुनवाई

ईवीएम हैकिंग को लेकर कांग्रेस पर बीजेपी ने साधा निशाना, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने पूछा, प्रेस कांफ्रेंस में कपिल सिब्बल क्या कर रहे थे

CBI मामला: अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर ने 20 अधिकारियों के किए तबादले, 2जी घोटाले की जांच करने वाला ऑफिसर भी शामिल

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- अनुच्छेद 35-A को चुनौती देने वाली याचिका पर जल्द बंद कमरे में होगी सुनवाई

पाकिस्तान ने करतारपुर कॉरिडोर पर तैयार किया ड्राफ्ट, समझौते को अंतिम रूप देने के लिए भारत को भेजा न्यौता

सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 फीसदी आरक्षण पर हाईकोर्ट का मोदी सरकार को नोटिस, 18 फरवरी से पहले देना होगा जवाब

2019-01-12_RMLodha.jpg

केंद्र सरकार ने सीबीआई के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा को उनके पद से हटाकर उन्हें फायर सर्विस का निदेशक बना दिया था. जिसके बाद उन्होंने डीजी फायर सर्विस का चार्ज लेने से इनकार करते हुए सेवा से इस्तीफा दे दिया. उन्होंने कहा था कि उनके मामले में प्राकृतिक न्याय को समाप्त कर दिया है. इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस आरएम लोढ़ा ने टिप्पणी की है.

जस्टिस लोढ़ा ही वह शख्स है जिन्होंने सीबीआई के लिए 'पिंजरे में कैद तोता' शब्द को गढ़ा था क्योंकि जांच एजेंसी को सरकार की इच्छाओं की गुलाम है. शुक्रवार को जस्टिस लोढ़ा ने कहा, 'तोता तब तक आसमान में पूरी तरह से नहीं उड़ सकता जब तक उसे खुला नहीं छोड़ा जाएगा. समय आ गया है जब कुछ किया जाना चाहिए और होना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सीबीआई उच्चस्तरीय जांच एजेंसी बन सके.'

इस स्वतंत्रता को कैसे सुरक्षित किया जाए इस पर उन्होंने कहा, 'ऐसी विधियां और तरीके हैं जिनके द्वारा यह किया जा सकता है. हर सरकार सीबीआई का प्रयोग करती है और उसे प्रभावित करती हैं. लेकिन मुझे लगता है कि यह मामला न्यायालय के अधीन है. यह कोयला घोटाले के दौरान सामने आया था और इसके बाद यह जारी रहा. कोर्ट के जरिए या फिर किसी और माध्यम से सीबीआई की स्वतंत्रता को सुनिश्चित किया जाना चाहिए.'

आलोक वर्मा के ट्रांसफर पर जस्टिस लोढ़ा ने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट ने इस बात की तरफ इंगित किया था कि समिति से सलाह नहीं ली गई. केंद्र सरकार ने सीबीआई के मुखिया का तबादला करने के लिए इसका प्रयोग किया.' मई 2013 में कोल आवंटन मामले की सुनवाई करते हुए तत्कालीन जज रहे जस्टिस लोढ़ा ने सरकार के वकील से पूछा था कि उन्हें पिंजरे में कैद तोते को खुला छोड़ने में कितना समय लगेगा और इसके लिए उसकी आवाज को दबाना बंद करें.

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'जांच एजेंसी को स्वतंत्रता दी जानी चाहिए. समय आ गया है कि इसे राजनीतिक कार्यकारिणी से अलग किया जाए. जब तक इस पर राजनीतिक कार्यकारिणी नियंत्रण करती रहेंगी, चाहे जो भी सत्ता में हो तब तक इस तरह की घटनाएं होती रहेंगी.


 



loading...