60 हजार रूपए तक महंगी हो सकती हैं कारें, अप्रैल 2019 से लागू होंगे नए सेफ्टी नॉर्म्‍स

2017-11-13_safety54.jpg

छोटी कारें और कई वैरिएंट के बेस मॉडल की कीमतों में इजाफा हो सकता है. इसके तहत कारें 60 हजार रुपए तक महंगी हो सकती हैं. ऐसा कारों में सरकार द्वारा एडिशनल सेफ्टी फीचर्स को अनिवार्य करने की तैयारी से हो सकता है. सरकार नए नॉर्म्स को अप्रैल 2019 से लागू करने की तैयारी में है. इस संबंध में केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्रालय जल्द ही नोटिफिकेशन जारी कर सकता है. ऑटोमोबाइल कंपनियों के अनुसार , नए फीचर्स लागू होने के बाद कारों के प्राइस बढ़ना तय है.

PwC के ऑटोमोबाइल पार्टनर अब्‍दुल मजीद ने कहा कि‍ अमेरि‍का , ब्रि‍टेन और ज्‍यादातर यूरोपीय देशों में कई वर्षों से इन सेफ्टी फीचर्स को अनि‍वार्य कि‍या गया है. एडि‍शनल फीचर्स को शामि‍ल करने से कारों की कॉस्‍ट में 20 हजार रुपए से 60 हजार रुपए तक का इजाफा हो सकता है. सोसाइटी ऑफ इंडि‍यन ऑटोमोबाइल मैन्‍युफैक्‍चरर्स (सिआम) के डीजी वि‍ष्णु माथुर ने कहा कि‍ बेस मॉडल में सेफ्टी फीचर्स बढ़ाने से बेशक कीमतों में इजाफा होगा. यह इजाफा रॉ मैटि‍रि‍यल, फॉरेक्‍स रेट और सप्‍लाई चेन में कि‍ए जाने वाले बदलाव पर नि‍र्भर करता है.

वि‍ष्‍णु माथुर ने कहा कि‍ अक्‍टूबर 2019 में ऑटोमोबाइल इंडस्‍ट्री को क्रैश टेस्‍ट के नॉर्म्‍स को पूरा करने के लि‍ए एयरबैग्‍स को शामि‍ल करना ही है, लेकि‍न अब इसे छह महीने पहले ही करना पड़ेगा. वैसे भी इन फ्रंटल एयरबैग्‍स को क्रैश टेस्‍ट के लि‍ए पूरा करना ही है. अब होगा यह कि‍ एडि‍शनल फीचर्स की वजह से बढ़ने वाली कॉस्‍ट पर टैक्‍स लगेगा जि‍ससे अपने आप कीमतें ज्‍यादा हो जाएंगी. गौरतलब है कि‍ वॉर्निंग हार्नेस के साथ एयरबैग फि‍टमेंट की कॉस्‍ट करीब 10 हजार रुपए पड़ती है.

कारों को ज्‍यादा सेफ करने के लि‍ए केंद्रीय सड़क एंड परि‍वहन मंत्रालय नए नि‍यमों को अनि‍वार्य करने जा रही है. इसके तहत 1 जुलाई 2019 के बाद मैन्‍युफैक्‍चरर्स हुईं सभी कारों में एयरबैग्‍स, सीट बेल्‍ट रीमाइंडर, 80 कि‍मी प्रति‍ घंटा से ज्‍यादा स्‍पीड होने पर अलर्ट सि‍स्‍टम, रीवर्स पार्किंग सेंसर और इमरजेंसी के लि‍ए सेंट्रल लॉकिंग सि‍स्‍टम की जगह मैनुअल ओवर राइड को अनि‍वार्य हो जाएंगे.



loading...