केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी के गठन को मंजूरी दी, CBSE का कम होगा भार

2017-11-11_nta54.jpg

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उच्च शिक्षण संस्थाओं के लिये प्रवेश परीक्षा आयोजित करने के वास्ते राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (NTA ) के गठन को मंजूरी दे दी गई है. मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने इस कदम को ‘ऐतिहासिक’ करार दिया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय का निर्णय किया गया. 

जानकारी के मुताबिक , राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) का गठन भारतीय सोसाइटी पंजीकरण अधिनियम 1860 के तहत किया जायेगा. यह एक शीर्ष स्वायत्त परीक्षा संगठन होगा जो उच्च शिक्षण संस्थाओं के लिये प्रवेश परीक्षा का आयोजन करेगा.

प्रारंभ में NTA उन परीक्षाओं का आयोजन करेगी, जिनका आयोजन अभी केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE ) कर रही है. इसके अलावा अन्य परीक्षाओं का आयोजन पूरी तरह से तैयार होने के बाद NTA धीरे धीरे करेगी. प्रवेश परीक्षा का आयोजन वर्ष में 2 बार ऑनलाइन माध्यम से किया जायेगा. ग्रामीण छात्रों की सुविधा का ध्यान रखते हुए परीक्षा केंद्र उप जिला और जिला स्तर पर रखे जायेंगे.

जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी का गठन एक ऐतिहासिक निर्णय है और अत्यंत आवश्यक शिक्षा सुधार है. उन्होंने लिखा कि CBSE अभी तक सीटीईटी, यूजीसी नेट, जेईई मेन्स,नीट, जेएनवी प्रवेश सहित नौ प्रकार की परीक्षांए आयोजित कराता रहा है, जिसमें कम से कम 70 लाख छात्र भाग लेते हैं. नेशनल टेस्टिंग एजेंसी प्रवेश परीक्षा आयोजित कराने का CBSE का भार अपने ऊपर ले लेगी.

उन्होंने कहा कि NTA की अध्यक्षता मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से नियुक्त जाने माने शिक्षाविद करेंगे. इसके मुख्य कार्यकारी अधिकारी, महानिदेश होंगे जिनकी नियुक्ति सरकार करेगी. इसमें एक संचालक मंडल होगा. उल्लेखनीय है कि NTA का गठन होने से विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं में उपस्थित होने वाले 40 लाख छात्रों को लाभ होगा. इससे CBSE , एआईसीटीई जैसी एजेंसियों पर भार कम होगा.
 



loading...