ताज़ा खबर

उत्तराखंड के टिहरी में बड़ा हादसा, गहरी खाई में बस गिरने से 14 लोगों की मौत, 18 घायल, सीएम ने दिए जांच के आदेश

पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए मेजर विभूति को आखिरी सलामी, ताबूत चूमकर पत्नी बोलीं I Love You

उत्तराखंड हाईकोर्ट से बाबा रामदेव की दिव्य फार्मेसी को बड़ा झटका, मुनाफे का कुछ हिस्सा स्थानीय लोगों में बांटने का आदेश

उत्तराखंड: देहरादून में तमसा नदी पर बना 100 साल पुराना पुल टूटने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

आईएएस स्टिंग मामले में नैनीताल हाईकोर्ट से उत्तराखंड सरकार को बड़ा झटका

उत्तराखंड: उच्च न्यायालय ने नगर पालिकाओं-पंचायतों में 7 दिन के भीतर चुनाव प्रकिया शुरू करने के दिए आदेश

उत्तराखंड में अगले 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी, प्रशासन ने सतर्क रहने के दिए आदेश

2018-07-19_BusAccidentUttarakhand.jpg

टिहरी जिले के चंबा में गुरुवार की सुबह उत्तराखंड रोडवेज की बस 300 मीटर गहरी खाई में जा गिरी. राज्य सरकार ने हादसे की न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. हादसे में 14 लोगों की मौत की सूचना है और 16 यात्री घायल हुए हैं. मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है.
 
बताया गया कि हादसा सुबह करीब आठ बजे चंबा-धरासू मोटर मार्ग पर सुल्याधार के पास हुआ. उत्तराखंड परिवहन निगम की बस संख्या यूके 07 पीए 1929 का चालक नियंत्रण खो बैठा और बस करीब 300 मीटर गहरी खाई में जा गिरी. बस में करीब 30 यात्री सवार थे.
 
यह बस भटवाड़ी से हरिद्वार जा रही थी. खाई से 14 शव बाहर निकाल लिए गए हैं. रेस्क्यू टीम के आने से पहले पुलिस और स्थानीय लोगों ने रेस्क्यू कार्य किया. घायलों को टिहरी के मसीहा अस्पताल ले जाया गया है. जिनमें से आठ गंभीर घायलों को ऋषिकेश स्थित एम्स अस्पताल पहुंचाने के लिए हेलीकॉप्टर की मदद ली जा रही है. पुलिस टीम, टिहरी अग्निशमन विभाग और चंबा की आपदा टीम रेस्क्यू कार्य किया. डीएम और एसडीएम भी घटनास्थल पर पहुंचे. रेस्क्यू और सर्च अभियान फिलहाल जारी है. हादसे में मृतक और घायल होने वाले यात्री टिहरी, बिजनौर और रुड़की के रहने वाले हैं. 
 
सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चंबा हादसे पर गहरा शोक जताया है. उन्होंने मंत्री यशपाल आर्य और सुबोध उनियाल को घटनास्थल पर जाने के निर्देश दिए हैं. जिसके बाद दोनों मंत्री घटना स्थल पहुंचे और जायजा लिया. साथ ही मृतकों को 2-2 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए मुआवजे का एलान किया है.

बस दुर्घटना की वजह बीआरओ की लापरवाही बताई जा रही है. जहां दुर्घटना हुई वहां काजवे बन रहा है. बीआरओ डेढ़ वर्ष में इसे नहीं बना पाया है. आपको बता दें कि पिछले दिनों उत्तराखंड के ही पौड़ी गढ़वाल जिले में भी एक भीषण बस हादसा हुआ था, जिसमें 45 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.



loading...