बुराड़ी कांड: 11 लोगों की मौत के मामले में एक और चौकाने वाला खुलासा, बीड़ी वाले बाबा के पास जाता था परिवार

2018-07-12_burarideathcase.jpg

राजधानी के बुराड़ी इलाके में एक घर से मिले दस लोगों के लटकते शवों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में किसी भी गड़बड़ी की आशंका को खारिज करते हुए कहा गया है कि इनकी मौत फांसी लगाने से हुई है. दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. पुलिस अधिकारी ने बताया कि उस घर के दूसरे कमरे से बरामद 77 साल की नारायण देवी के शव की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आना बाकी है. हालांकि, एक प्राथमिक रिपोर्ट में कहा गया है कि उनकी मौत आंशिक रूप से फांसी के चलते हुई है. यह भी पढ़ें: बुराड़ी कांड: गुमनाम चिट्ठी से एक और चौकाने वाला खुलासा, तांत्रिक के पास जाता था परिवार

अधिकारी ने बताया कि परिवार के दस लोगों की आई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में कहा गया है कि उनकी मौत फांसी लगने के कारण हुई है और शवों पर कुछ खरोंच के अलावा चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं. उन्होंने बताया कि रिपोर्ट से पता चलता है कि उनकी मौत फांसी पर लटकने से हुई है. हमें नारायण देवी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट की प्रतीक्षा है. यह भी पढ़ें: बुराड़ी कांड: रजिस्टर में मिले चौकाने वाले सबूत, पिता के अलावा 7 और आत्माओं के संपर्क में था ललित, उन्हें भी दिलाना था मोक्ष

एक जुलाई को एक ही परिवार के दस सदस्यों के शव छत से लगी लोहे की जाली से लटकते पाये गये थे. वहीं, नारायण देवी का शव दूसरे कमरे में जमीन पर पड़ा पाया गया था. मृतकों में नारायण देवी की बेटी प्रतिभा (57) और उसके दो बेटे भावेश (50) और ललित (45) शामिल थे. भावेश की पत्नी सविता (48) और उनके तीन बच्चे नीतू (25), मेनका (23) और धीरेंद्र (15) भी मृत पाये गये थे. इसके अलावा ललित की पत्नी टीना (42) उसका बेटा दुष्यंत (15) और प्रतिभा की बेटी प्रियंका भी शामिल थे. प्रियंका की पिछले महीने सगाई हुई थी. पुलिस को 11 डायरियां भी मिली थी. यह भी पढ़ें: दिल्ली के बुराड़ी में परिवार के 11 लोगों की मौत, घर में न कलह, न आर्थिक तंगी, फिर एक साथ कैसे हुए आत्महत्या के लिए राजी

वहीं परिवार के सदस्य अब भी इसे सामूहिक हत्या मान रहे हैं. वहीं एक गुमनाम व्यक्ति ने दिल्ली पुलिस को लेटर लिख दावा किया है कि भाटिया परिवार और एक तांत्रित के बीच संपर्क था. परिवार लगातार बीड़ी वाले बाबा के संपर्क में रहता था. गुमनाम चिट्ठी तीन जुलाई को लिखी गई थी. लेटर लिखने वाले व्यक्ति का कहना है कि परिवार दिल्ली के किसी बाबा के संपर्क में था. व्यक्ति का दावा है कि बाबा कराला में रहता हैं. व्यक्ति का यह भी दावा है कि बीड़ी और दाढ़ी वाले बाबा अपने आप को हनुमान भक्त कहता हैं. वह झाड़फूंक करता हैं. लेटर में कहा गया है कि इन मौतों के पीछे बाबा का हाथ हो सकता है. यह भी पढ़ें: बुराड़ी कांड: इस डिलिवरी बॉय ने आखिरी बार देखा था परिवार, बेटी ने मंगवाई थीं 20 रोटियां, पापा ने किया था पेमेंट



loading...