ताज़ा खबर

बुलंदशहर हिंसा: सीएम योगी से मिला इंस्पेक्टर सुबोध कुमार का परिवार, सरकार करेगी भरपूर मदद

शैक्षणिक योग्यता पर कांग्रेस के आरोपों पर स्मृति ईरानी ने कहा- जितना मेरा अपमान करोगे, अमेठी में उतनी ही मेहनत करूंगी

Lok Sabha Election: पहले चरण के मतदान के बाद मायावती ने उठाया EVM का मुद्दा, बीजेपी पर लगाया गड़बड़ी करने के आरोप

रायबरेली से नामांकन के बाद सोनिया गांधी ने कहा- कोई अजेय नहीं, 2004 में वाजपेयी भी हारे थे

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेठी से किया नामांकन, सीएम योगी आदित्यनाथ भी रहे मौजूद

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर भीषण हादसा, ट्रक-कार की टक्कर में 8 की मौत

आज रायबरेली से नामांकन दाखिल करने से पहले रोड शो करेंगी सोनिया गांधी, प्रियंका वाड्रा और राहुल गांधी भी रहेंगे साथ

2018-12-06_SubodhFamily.jpg

बुलंदशहर में सोमवार को गोकशी के शक में भड़की हिंसा में मारे गए इंस्‍पेक्‍टर सुबोध कुमार के परिवार ने गुरुवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से मुलाकात की. गुरुवार सुबह सुबोध कुमार के बेटे समेत अन्‍य सदस्‍य योगी आदित्‍यनाथ से मिलने लखनऊ स्थित मुख्‍यमंत्री आवास पहुंचे. यहां उत्‍तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह भी मौजूद रहे. बताया जा रहा है कि इस दौरान सरकार की ओर से भरपूर मदद देने की बात भी कही गई है.

आपको बता दें कि बुलंदशहर हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की पत्नी को योगी सरकार मुआवजे के तौर पर 40 लाख रुपये देगी. 10 लाख रुपये उनके माता-पिता को भी दिया जाएगा. सीएम योगी ने एक परिजन को सरकारी नौकरी देने का भी ऐलान किया है. इधर 2 डॉक्टरों के पैनल ने उनका पोस्टमार्टम किया. पोस्टमार्टम के दौरान उनके सिर में 32mm की गोली मिली. इसके अलावा उनके सिर, कमर, घुटना समेत शरीर के कई जगहों पर डंडों से चोट के निशान भी मिले हैं. जानकारी के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने सुबोध कुमार की सरकारी पिस्टल और 3 मोबाइल फोन लूट लिए.

आपको बता दें कि इंस्पेक्टर सुबोध कुमार अखलाक हत्याकांड के इंवेस्टिगेशन ऑफिसर भी रह चुके थे. जब वे जारजा थाना प्रभारी थे तब उन्होंने अखलाक हत्याकांड की दो महीने तक जांच की थी. बाद में उनका ट्रांसफर हो गया था. उस दौरान ग्रेटर नोएडा कोर्ट ने जारचा थाने को आदेश दिया था कि पहले वह मामला दर्ज करके जांच रिपोर्ट अदालत में जमा कराएं. वे इस मामले में 28 सितंबर 2015 से 9 नवंबर 2015 तक इंवेस्टिगेशन ऑफिसर थे. मार्च 2016 में दूसरे इंवेस्टिगेशन ऑफिसर ने चार्जशीट फाइल की थी.

आपको बता दें कि इंस्‍पेक्‍टर सुबोध के बेटे अभिषेक ने कहा था कि उनके पिता चाहते थे कि वह एक अच्छा नागरिक बने, जो धर्म के नाम पर हिंसा नहीं भड़काये. अभिषेक सिंह ने कहा, ‘मेरे पिता ने इस हिन्दू-मुस्लिम विवाद में अपना जीवन गंवा दिया. अगली बारी किसके पिता की होगी?’ अभिषेक अपनी बातों के जरिए समाज को समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि धर्म और जाति के नाम पर आपसी नफरत ठीक नहीं है. यह हम सबको नुकसान पहुंचाएगा. इस नफरत की आग में कोई और नहीं बल्कि हम और आप अपनों को खोएंगे.



loading...