ताज़ा खबर

विडियो: शक्की पति ने काटा पत्नी का पैर, सनक ने बानाया हैवान

मध्यप्रदेश के उज्जैन में बड़ा दर्दनाक हादसा, कार और वैन की टक्कर में 12 की मौत, पूर्व सीएम शिवराज ने जताया दुःख

मध्यप्रदेश: BSP विधायक रमाबाई ने कहा- अगर मुझे मंत्री नहीं बनाया तो कर्नाटक जैसा होगा कमलनाथ सरकार का हाल

बैकफुट पर कमलनाथ सरकार, मंत्री के बयान पर दी सफाई, कहा- बंद नहीं होगी ‘भावांतर योजना’

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने की पूर्व सीएम शिवराज सिंह से मुलाकात, MP में मच सकती है सियासी उथल-पुथल

भय्यू महाराज ने ब्लैकमेलिंग से परेशान होकर की थी आत्महत्या, 3 लोग गिरफ्तार

कर्नाटक के बाद अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस हुई सतर्क, बीजेपी नेता ने कहा- जब तक मंत्रियों के बंगले पुतेंगे कांग्रेस सरकार गिर जाएगी

2017-03-03_brutalhusband.jpg

जनपद दमोद के हटा तहसील मडियादो थाना क्षेत्र के उदयपुरा गांव में एक पति ने अपनी पत्नी का पहले पैर काटा और उसे घर में ही कटे पैर के सहारे भयंकर दर्द झेलने के लिए बंधक बना लिया. इतना ही नहीं पत्नी का कटा पैर तकिए के नीचे रखकर खर्राटे मारता रहा. गुरुवार को यह बात मडियादो पुलिस तक पहुंची तो पुलिस ने जाकर बंधक बनी पत्नी को पति के चुंगल से छुड़ाया. पुलिस के अनुसार उदयपुरा गांव से उसे सूचना मिली थी कि गांव के हरप्रसाद आदिवासी ने अपनी पत्नी अनीता आदिवासी का एक पैर दो दिन पहले कुल्हाड़ी से काट दिया. इसके बाद इसकी खबर किसी को नहीं होने दी और किसी को पता न चले अंदर से ताला लगाकर पत्नी को बंधक बनाकर रखा. 

इस बात की खबर गांव के लोगों को लगी उन्होंने तुरंत पुलिस को सूचना दी. पुलिस ने हरप्रसाद को हिरासत में ले लिया है. गंभीर हालत में पहुंची पत्नी को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया. 

पुलिस पति से पूछताछ कर रही है. पूछताछ में पता चला पत्नी पर शक के चलते उसने ऐसा कदम उठाया. पुलिस उसे सनकी मान रही है. आरोपी हरप्रसाद आदिवासी सनकी किस्म का इंसान है. इसका विवाह किसनगढ़ थाना के बिला गांव में करीब 1 साल पहले हुआ था.

आरोपी अपनी पत्नी अनीता के चरित्र पर शक करता था, जिसके कारण उसने यह कदम उठाया और पत्नी का दांया पैर काटकर 2 दिन तक अपने पास रखा. दर्द से कराहती पत्नी जान बचाने के लिये चुप रही.

थाना प्रभारी अशोक नांनामा ने फरियादी की निशानदेही पर आरोपी हादसे के तीन घण्टे के अंदर ही कुल्हाड़ी सहित उदयपुरा गांव से गिरफ्तार कर धारा 307, 326 ipc के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर, आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया है.
 



loading...