उत्तराखंड: देहरादून में तमसा नदी पर बना 100 साल पुराना पुल टूटने से 2 लोगों की मौत, 3 घायल

देहरादून की रैली में बोले राहुल गांधी, 2019 में कांग्रेस की सरकार बनेगी, हर गरीब को न्यूनतम इनकम दी जाएगी

लोकसभा चुनाव: उत्तराखंड में बीजेपी को लग सकता है बड़ा झटका, कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं पूर्व सीएम बीसी खंडूरी के बेटे मनीष खंडूरी

पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए मेजर विभूति को आखिरी सलामी, ताबूत चूमकर पत्नी बोलीं I Love You

उत्तराखंड हाईकोर्ट से बाबा रामदेव की दिव्य फार्मेसी को बड़ा झटका, मुनाफे का कुछ हिस्सा स्थानीय लोगों में बांटने का आदेश

सुशांत सिंह राजपूत और सारा अली खान की फिल्म ‘केदारनाथ’ को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ी राहत, याचिका रदद्, उत्तराखंड सरकार ने जांच के लिए बनाया पैनल

आईएएस स्टिंग मामले में नैनीताल हाईकोर्ट से उत्तराखंड सरकार को बड़ा झटका

2018-12-28_BridgeCollaspes.jpg

देहरादून के कैंट इलाके में शुक्रवार तड़के ब्रिटिश पीरियड के समय का बना लोहे का एक पुल ढह जाने से उस पर होकर गुजर रहा एक डंपर (छोटा ट्रक) और एक मोटरसाइकिल दुर्घटनाग्रस्त होकर नीचे खड्ड में गिर गए. इस हादसे में दो व्यक्तियों की मौत हो गई जबकि तीन अन्य घायल हो गए. 100 साल से अधिक पुराना ये पुल अपनी मियाद पूरी कर चुका था फिर भी इस पर वाहनों का आवागमन चालू था.

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार कैंट एरिया के बीरपुर क्षेत्र में तमसा नदी पर स्थित ब्रिटिश कालीन लोहे का पुल ढह जाने से उस पर होकर गुजर रहा एक डंपर और एक मोटरसाइकिल भी पुल के साथ-साथ नीचे आ गिरे. सुबह करीब पांच बजे हुए इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई.

दुर्घटना में तीन अन्य व्यक्ति घायल भी हुए हैं जिन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि 100 साल से भी ज्यादा पुराना यह पुल जर्जर हो गया था और इसकी जगह पर नया पुल बनाया जाना प्रस्तावित था लेकिन इससे पहले ही यह दुर्घटना हो गई. यह पुल सीएम आवास से महज दो किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. इस पुल के गिर जाने से कई गांवों और प्रमुख देवीस्थल मां संतला देवी मंदिर, जनतंबाला, बानगंगा, काण्डली, जामुन बाला,  झाडूबाला आदि गांवों को जोड़ने वाला सम्पर्क टूट गया है. आपको बता दें कि इस जर्जर हो चुके पुल की मरम्मत व नए पुल की मांग स्थानीय नागरिकों द्वारा काफी समय से की जा रही थी.



loading...